दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (Central Bureau of Investigation) ने अमेरिका से मदद मांगी है।  एक औपचारिक चैनल के माध्यम से सीबीआई ने अमेरिका से संपर्क किया है।  अमेरिका से सीबीआई ने सुशांत सिंह के ईमेल और सोशल मीडिया अकाउंट से डिलीट हुए डेटा को फिर से हासिल करने के संबंध में मदद मांगी है।  जांच एजेंसी ने कहा कि डेटा को हासिल करके इस बात का पता लगाने का प्रयास किया जाएगा कि 14 जून (2020) को हुई आत्महत्या की घटना (Reason for the suicide) की क्या वजह रही होगी। 

कैलिफोर्निया स्थित गूगल (California-based Google and Facebook) और फेसबुक से MLAT के तहत जानकारी मांगी गई है।  सीबीआई ने गूगल और फेसबुक से सुशांत (CBI has appealed to Google and Facebook to share the details of Sushant's deleted chats) के डिलीटेड चैट, ईमेल या पोस्ट की डिटेल शेयर करने की अपील की है, ताकि उनका एनालिसिस किया जा सके और निष्कर्ष तक पहुंचने में कुछ मदद मिल सके।  भारत और अमेरिका के पास एमएलएटी है, जिसके तहत दोनों पक्ष किसी भी घरेलू जांच के संबंध में जानकारियां हासिल कर सकते हैं, जो हालांकि आमतौर पर संभव नहीं हो सकता है। 

 एमएलएटी के तहत ऐसी जानकारी हासिल करने या शेयर करने के लिए गृह मंत्रालय भारत में सेंट्रल अथॉरिटी है।  ऐसी जानकारियों को अमेरिका में अटॉर्नी जनरल का कार्यालय शेयर करता है।  नाम न बताने की शर्त पर एक अधिकारी ने कहा, ‘हम इस मामले को अंतिम रूप देने से पहले कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते।  हम जानना चाहते हैं कि क्या कोई ऐसी चैट या पोस्ट है, जो इस मामले में उपयोगी साबित हो सकती है। 

सुशांत सिंह की मौत (Sushant Singh's death) की जांच को अंतिम रूप देने में कुछ और समय लग सकता है क्योंकि एमएलएटी के माध्यम से जानकारी शेयर करना एक लंबा और टाइम टेकिंग प्रोसेस है।  प्रीमियर एजेंसी ने पिछले साल एक बयान के माध्यम से बताया था कि वह इस मामले की सभी एंगल से जांच कर रही है।  एक दूसरे अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, अमेरिका से डेटा शेयर करने की अपील करना मामले की तह तक जाने के लिए किए जा रहे सभी प्रयासों का एक हिस्सा है, क्योंकि हम किसी भी पहलू से चूकना नहीं चाहते हैं।’