सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद ने कथित बाबाओं पर प्रहार करते हुए कहा कि आशाराम, रामरहीम और रामपाल जैसे ढोंगियों की वजह से अंधविश्वास बढ़ा है। ये लोगों की आस्थाओं से खिलवाड़ कर उन्हें अंधविश्वास में धकेलकर करोड़ों रुपये कमा रहे थे। पोल खुलने पर जेल में चले गए।

ऐसे ही अंधविश्वास के कारण बच्चों से लेकर बड़े तक सब अपनी मन्नत पूरी होने पर हनुमान जी को 50 रुपये का प्रसाद चढ़ाने का लालच देते हैं। इसके अलावा मंदिरों में करोड़ों रुपये का गुप्त दान दे रहे हैं। इससे किसका फायदा होगा। हमें इन अंधविश्वासों से बाहर आकर देश व समाज का उत्थान करना होगा।

वह हापुड़ में आर्यसमाज के एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि समाज में कुरोतियों और अंधविश्वास को दूर करने में आर्यसमाज का बड़ा योगदान है। क्रांतिकारियों से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी तक आर्यसमाज की नीतियों और शिक्षा से प्रभावित थे। हमें समाज से ऐसी कुरीतियों को दूर करना होगा।