पाकिस्तान में इस समय जबरदस्त महंगाई फैली हुई है। इसके चलते वहां चीनी के भाव जानकर लोगों के होश उड़ रहे हैं। वहां पर चीनी की कीमत अब 100 रूपये प्रति किलो के पार पहुंच चुकी है। इसके अलावा आटा, सब्जी अंडे और चिकन के भाव पहले से ही आसमान पर हैं। आलम ये है कि सब्सिडी की दर पर चीनी लेने के लिए रमजान के महीने में भी रोजाना लोगों को लंबी लाइनों में खड़ा होना पड़ रहा है। जिसके कारण अब विपक्ष ने इमरान खान सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी और पाकिस्तान मुस्लिम लीग.नवाज की उपाध्यक्ष मरियम नवाज शरीफ ने इमरान खान सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने ट्विटर पर चीनी के लिए लाइनों में खड़े लोगों की एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा कि लोग चीनी लेने के लिए लाइनों में खड़े हैं। जिसे खरीदने के बाद हर शख्स के अंगूठे पर सयाही का एक निशान लगा दिया जाता हैण् इस तस्वीर में जाली सरकार का असली चेहरा देखा जा सकता है।

इस बीच खबरे आ रही हैं कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अपने उस फैसले पर यूटर्न ले लिया है जिसमें भारत से सस्ते दाम में चीनी खरीदने की बात की गई थी। बीते हफ्ते, दोनों देशों के बीच व्यापार फिर से खुलने की उम्मीद जगी थी। हालांकि, भारत से चीनी और कपास के आयात की इजाजत देने के पाकिस्तान ईसीसी के फैसले को पाकिस्तान के मंत्रिमंडल ने रोक दिया था।
अखिल भारतीय चीनी व्यापारी संघ के अध्यक्ष प्रफुल्ल विठलानी ने कहा कि भारत-पाकिस्तान की चीनी की कमी को आसानी से पूरा कर सकता है। दोनों देशों के बीच दोबारा व्यापार शुरू होने से सभी को फायदा है। मैं कहना चाहता हूं कि मानव उपभोग की आवश्यक वस्तुओं को राजनीति से दूर रखना चाहिए।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में पंजाब के रास्ते सड़क मार्ग से सफेद चीनी 398 डॉलर प्रति टन की दर से पहुंचाई जा सकती है। यह दर समुद्र मार्ग से दूसरे देशों से आने वाली चीनी के मुकाबले 25 डॉलर प्रति टन सस्ती है। उन्होंने कहा कि ब्राजील से पाकिस्तान तक चीनी पहुंचाने में 45-60 दिनों का समय लगता है, जबकि भारत से 4 दिनों में वहां चीनी पहुंचाई जा सकती है।