दुनिया के सबसे व्यस्त कारोबारी मार्ग मिस्र की स्वेज नहर में एक विशालकाय मालवाहक जहाज एवरग्रीन भले ही सात सप्ताह की मशक्कत के बाद निकाला जा चुका है, लेकिन मामले की गाज अब जहाज को चला रहे 25 सदस्यीय भारतीय चालक दल पर गिरना तय माना जा रहा है। 

सूचना है कि चालक दल को नजरबंद कर लिया गया है। मिस्र सरकार जल्द ही भारतीय चालक दल को गिरफ्तार कर सकती है। मामले की जांच कर रहे अधिकारियों का दावा है कि जहाज फंसने के पीछे हवा और खराब मौसम नहीं बल्कि मानवीय या तकनीकी गड़बड़ी जिम्मेदार है। सूत्रों के अनुसार जांच पूरी होने तक भारतीय चालक दल को घर में ही नजरबंद कर लिया गया है। 

गौरतलब है कि लाल सागर और भूमध्य सागर के बीच मौजूद इस महत्वपूर्ण जलमार्ग में एवरग्रीन नाम का शिप तिरछा होकर फंस गया था और पिछले सात दिनों से ये मार्ग बंद था। जिससे नहर के दोनों छोर पर सैकड़ों जहाज और फंस गए थे। सात दिन की कड़ी मशक्कत के बाद जहाज को निकाल लिया गया। 400 मीटर लंबे इस जहाज में 2 लाख टन से भी ज्यादा का माल लदा था। एवरग्रीन को चला रही कंपनी ने कहा था कि तेज हवा और खराब मौसम की वजह से यह जहाज फंसा गया।