सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन यानि CBI के अगले निदेशक के तौर पर आईपीएस अधिकारी सुबोध कुमार जायसवाल का मंगलवार को चयन कर लिया गया। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली समिति के सदस्यों ने सोमवार को बैठक की थी। नवनियुक्त CBI निदेशक सुबोध कुमार जायसवाल फिलहाल CISF के डाइरेक्टर जनरल पोस्ट पर कार्यरत हैं। सीबीआई के निदेशक पद के लिए सोमवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया और लोकसभा में नेता विपक्ष अधीर रंजन चौधरी की कमेटी के द्वारा बैठक के दौरान कई नामों पर चर्चा हुई उसके बाद सुबोध कुमार जायसवाल के नाम पर अंतिम मुहर लगा दी गयी।

वे 1985 बैच के महाराष्ट्र कैडर के अधिकारी हैं। इससे पहले वह मुंबई पुलिस कमिश्नर और महाराष्ट्र डीजीपी के पद पर रह चुके हैं। राज्य की उद्धव ठाकरे सरकार से मतभेद के बाद सेंट्रल डेपुटेशन पर दिल्ली वे चले गए थे। मुंबई सीपी बनने से पहले पहले ये सेंट्रल डेपुटेशन पर थे। सुबोध जायसवाल महाराष्ट्र एटीएस के चीफ रह चुके हैं। जायसवाल RAW मे रह चुके है। वह तेलगी स्कैम केस से जुड़े जांच से भी जुड़े थे। जायसवाल ने 2006 के मुंबई सीरियल ब्लॉस्ट के जांच भी की थी।

सुबोध कुमार जयसवाल का जन्म 22 सितंबर 1962 हुआ था, बचपन से जायसवाल काफी तेज तर्रार थे। वह महज 23 साल की उम्र में ही आईपीएस अधिकारी बन गए थे। बेहद काबिल जायसवाल देश की खुफिया एजेंसी रॉ में कई महत्वपूर्ण ऑपरेशन के लिए चयन किया गया था, जिसमें उन्होंने बहुत ही बेहतर तरीके से अंजाम दिया था। रॉ के लिए इन्होंने देश के बाहर इन्होंने कई सफल ऑपरेशन को अंजाम दिया है।