यह एक ऐसी लड़की की कहानी है जो अब 34 साल की हो चुकी है। इसका नाम Ayda Zugay है और वो अमेरिका में एक रिफ्यूजी के तौर पर आईं थीं। इसने 2 दशक पहले Zugay ने यूगोस्लाविया से भागकर अपनी बहन के साथ यहां शरण ली थी। तब उनके पास ना तो रहने का ठिकाना था और ना ही खाने के पैसे। लेकिन उन कठिन हालातों में एक अजनबी महिला ने उनकी मदद की थी। जिसकी तलाश Ayda Zugay को आज भी है।

यह भी पढ़ें : इंडियन आर्मी मणिपुर में स्थापित करेगी 'रेड शील्ड सेंटर', जानिए क्या होगा फायदा

Zugay उस अजनबी महिला से मिलकर उसे धन्यवाद देना चाहती हैं, क्योंकि बुरे दौर में पैसे देकर महिला ने उनकी मदद की थी। लेकिन Zugay की तलाश दो दशक बाद भी खत्म नहीं हुई है। खबर है कि उस महिला ने यूगोस्लाविया छोड़कर आ रही Zugay को हवाई जहाज में एक लिफाफा दिया था। महिला ने Zugay से कहा था कि इस लिफाफे को वह प्लेन से उतरने के बाद ही खोले। लिफाफे में एक चिट्ठी के साथ 100 डॉलर (7 हजार रुपये से अधिक) थे। इन पैसों ने ही Ayda Zugay की जिंदगी बदली। 

महिला ने चिट्ठी में लिखा था- 'मुझे बहुत खेद है कि आपके देश में बमबारी की वजह से आपके परिवार को समस्या हुई। मुझे आशा है कि अमेरिका में आपका प्रवास आपके लिए सुरक्षित और खुशहाल होगा। अमेरिका में आपका स्वागत है। कृपया यहां इसका उपयोग करें, ये आपकी सहायता के लिए है। विमान से एक दोस्त- TRACY।'

उस चिट्ठी में उस अजनबी महिला ने अपना नाम TRACY बताया, लेकिन बाकी कोई जानकारी नहीं दी और ना ही कभी Ayda Zugay से संपर्क किया। ऐसे में Zugay को उसे खोजने में बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। इसके लिए Zugay ने सोशल मीडिया का भी सहारा लिया है।

यह भी पढ़ें : मिजोरम में कोरोना के 83 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में नहीं हुई किसी की मौत

Ayda Zugay का कहना है कि कैसे उस अजनबी महिला के द्वारा दिए पैसों से उन्होंने अपना पेट भरा था। उसके दिए पैसों से ही उन्हें कई दिनों तक खाना नसीब हुआ। 23 साल बाद भी Zugay और उनकी बहन Vanja Contino उस महिला का एहसान मानती हैं, जिसने कठिन समय में बिना बताए उनकी मदद की थी। फिलहाल, कई Refugee Organizations भी Zugay के साथ मिलकर TRACY को तलाश कर रही हैं।