केन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में शामिल स्वास्थ्यकर्मियों और सुरक्षाकर्मियों के साथ हिंसा को गैर जमानती अपराध बनाया है। इसके साथ ही ऐसा करने वाले को 7 साल की सजा का प्रावधान भी किया है। लेकिन इसके बाद भी सुरक्षाकर्मियों पर हमले रुक नहीं रहे है। ऐसा ही एक मामला गुजरात के सूरत शहर में सामने आया, जहां लॉकडाउन लागू करा रहे सुरक्षाकर्मियों पर लोगों ने हमला किया।
सूरत के पुलिस उपायुक्त आर पी बरोत के मुताबिक जब उन्हें पता चला कि इलाके में कुछ लोग घूम रहे हैं और बंद के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं तो हमने वहां एक पीसीआर वैन भेजी। पुलिस ने जब लोगों से घर के भीतर रहने को कहा तो कुछ लोग भड़क गए और उन्होंने पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। उन्होंने बताया कि घटना में 1 पुलिसकर्मी को चोट आई है। एक अधिकारी ने बताया कि इस घटना में एक पुलिसकर्मी घायल हो गया।
गुजरात में कल ही कोरोना के 247 पॉजिटिव केस मिले और 11 लोगों की जान गई है। राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3301 हो गई है। देश में महाराष्ट्र के बाद सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य में गुजरात ही है। यहां पहला मामला 19 मार्च को सामने आया था। तब से लॉकडाउन के 40 दिनों में ही उसके केस 99 फीसदी बढ़ गए हैं।