अगर आप भी खुद के बि‍जनेस का ऑप्शन देख रहे तो ये खबर आपके काम की है। जिसमें आप कम पूंजी में अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकते है। नौकरी के अलावा ये बि‍जनेस कर सकते है। आज के समय में बिजनेस के प्रति लोगों की रुचि काफी बढ़ गई है। इस तरह के कई बिजनेस हैं, जिसे आप आप कम पूंजी में शुरू कर सकते हैं और इनसे बढ़िया मुनाफा कमाया जा सकता है। अच्‍छी बात तो ये है कि सरकार भी इस कारोबार को करने वालों की मदद करेगी। दरअसल, भारत में एक बड़ी आबादी चाय की शौकीन है। रेलवे स्टेशनों, बस डिपो और हवाईअड्डों पर कुल्हड़ की चाय की लगातार मांग रहती है। ऐसे में आप कुल्हड़ बनाने और बेचने का बिजनेस शुरू कर सकते है।

सरकार अब देश में घरेलू उद्योग को बढ़ावा दे रही है। ऐसे व्यवसाय को शुरू करने के लिए सरकार मदद भी करती है। इन छोटे व्यवसाय की खास बात ये हैं कि ये कम पूंजी में शुरू किए जा सकते हैं और इनसे काफी अच्छी कमाई की जा सकती है। इन्हीं में एक कुल्लड़ व्यवसाय भी है जिसकी बाजार में काफी मांग है। आने वाले समय में कुल्हड़ की मांग और भी तेजी से बढ़ेगी। हाल ही में सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कुल्हड़ को बढ़ावा देने के लिए प्लास्टिक या कागज के कप में चाय बेचने पर रोक लगाने की मांग की है। ऐसे में आने वाले समय में कुल्हड़ की मांग में इजाफे का फायदा उठा सकते हैं। इससे दो लाभ हैं, एक तो प्लास्टिक कचरे से मुक्ति मिलेगी जो पर्यावरण के लिए खतरा बना है। वहीं लाखों लोगों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा।

जानकारी दें कि मोदी सरकार ने कुल्हड़ बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए कुम्हार सशक्तीकरण योजना को लागू किया है। इस योजना के तहत केंद्र सरकार देशभर के कुम्हारों को बिजली से चलने वाली चाक देती है तो वो इससे कुल्हड़ समेत मिट्टी के बर्तन बना सकें। बाद में सरकार कुम्हारों से इन कुल्हड़ को अच्छी कीमत पर खरीद लेती है। यह बिजनेस बेहद कम कीमत में शुरू किया जा सकता है। इसके लिए आपको थोड़ी सी जगह के साथ-साथ 5,000 रुपये की जरूरत होगी। मौजूदा दर की बात करें तो चाय के कुल्हड़ का भाव करीब 50 रुपये सैकड़ा है। इसी प्रकार लस्सी के कुल्हड़ की कीमत 150 रुपये सैकड़ा, दूध के कुल्हड़ की कीमत 150 रुपये सैकड़ा और प्याली 100 रुपये सैकड़ा चल रही है। मांग बढ़ने पर इससे अच्छे रेट की भी संभावना है। आज के समय में शहरों में कुल्हड़ वाली चाय की कीमत 15 से 20 रुपये तक भी होती है। अगर बिजनेस को सही तरीके से चलाया जाए और कुल्हड़ बेचने पर ध्यान दिया जाए तो 1 दिन में 1,000 रुपये के करीब बचत की जा सकती है।

मिट्टी के कुल्हड़ बनाने के लिए आपको सबसे पहले एक अच्छी क्वालिटी की मिट्टी चाहिए होती है। जिसका प्रयोग आप कुल्हड़ बनाने में करते हैं। आप अच्छी क्वालिटी की मिट्टी को अपने नजदीकी नदी या फिर तलाब जैसे क्षेत्रों से प्राप्त कर सकते हैं। आपको कुछ कुल्हड़ बनाने के लिए साचें की भी जरूरत पड़ेगी। आप इसको मार्केट से आसानी से प्राप्त कर सकते हैं और यह ज्यादा महंगा भी नहीं मिलता है। आप अपने कुल्हड़ बनाने की क्वलिटी के हिसाब से इसे मार्केट से खरीद सकते हैं। इसके अतिरिक्त आपको कुल्हड़ को पकाने के लिए और फाइनल रूप देने के लिए एक बड़े आकार की भट्टी का भी निर्माण करना पड़ेगा। जिस प्रकार से हमें किसी अन्य प्रकार के व्यवसाय को शुरू करने के लिए उससे संबंधित सरकार से लाइसेंस प्राप्त करना आवश्यक होता है, उसी प्रकार हमें इस व्यवसाय के अंदर एक ट्रेड लाइसेंस प्राप्त करना जरूरी है। इसके अलावा आपको अपने व्यवसाय को एमएसएमई के तहत भी रजिस्टर कर लेना चाहिए, इससे आपको व्यवसाय शुरू करने में फायदा मिल सकता है।