भारत-बांग्लादेश सीमा पर सीमा सुरक्षा बल के जवान को बड़ी सफलता उस समय हाथ लगी जब वे सीमा पर मुस्तैदी के साथ गश्त कर रहे थे, ठीक उसी वक्त नियंत्रण रेखा पर बांग्लादेश मुसि्लम जेहादी संगठन जमात-ए -इस्लामी के एक संदिग्ध सदस्य को धर दबोचा, जिसकी पहचान मो. जहरूल इस्लाम (26)के रुप में हुई है। 

बांग्लादेश के नेत्राकोना जिले के दुर्गापुर पुलिस थाना अंतर्गत अगरप्पा गांव का निवासी बताया जाता है। वह भारत सीमा के अंदर प्रवेश कर रहा था तभी उसे धर दबोचा गया।  बल द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार दक्षिण गारो हिल्स बाघमारा इलाके में एक शख्स की संदिग्ध गतिविधियों को भांपते हुए जवान सतर्क हो गए और घेराबंदी कर उसे सख्ती से पूछताछ की और प्राप्त जानकारी के आधार पर पता चला कि वह बांग्लादेश का मोस्ट वांटेड जेहादी संगठन के लिए काम करता है।

वह एक अंतर्रष्ट्रीय मंच एसईबीडीए के बच्चों (डेनमार्क) के लिए काम करता है। वह सत्तारुढ़ अवामी लीग सरकार की नीति से संतुष्ट नहीं है। इसके अलावा उसने खुलासा किया कि वह कुछ अवामी लीग के सदस्यों दवा्रा यातना के कारण जिहादी बन गया है। वह बांग्लादेश के विपक्षी बीएनपी का समर्थक है।

उसने कबूल वह जानता है कि वह एक दिन मारा जाएगा  लेकिन इसके बावजूद इस्लाम और पवित्र कुरान का सम्मान नहीं करने वाले सभी काफिरों को मार देगा। वह पुर्वोत्तर राज्यों का दौरा करने के लिए भारत में प्रवेश कर रहा था। फिलहाल इस घटना के बाद बल की मेघालय फ्रांटियर चौकन्नी हो गई है। फ्रांटियर के अधीन बांग्लादेश से साझा करने वाली अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर जवानों को सतर्क कर दिया गया है और हर संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए हिदायत दी गई है।