भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका का हाल ऐसा चुका है कि लोग महंगाई की वजह से देश छोड़कर भाग रहे हैं। यहां रोजमर्रा और खाने-पीने की चीजों के भाव आसमान छू रहे हैं। इस देश में अब 400 ग्राम दूध 790 रुपये का मिल रहा है। ज​बकि 1 किलो चावल भी अब 500 रुपये का हो चुका है। मुल्क के लोग भुखमरी और महंगाई से बचने के लिए भारत का रुख कर रहे हैं। मंगलवार को करीब 16 श्रीलंकाई समंदर के रास्ते भारत पहुंचे। इनमें एक दंपती तो चार महीने का बच्चा लेकर यहां आया है।

यह भी पढ़ें : मणिपुर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, साबुन के डिब्बों में भरी हेरोइन की जब्त

श्रीलंका से आए शरणार्थियों ने बताया कि 'हमारे देश में चावल 500 श्रीलंकाई रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गया है। 790 रुपये में 400 ग्राम दूध पाउडर मिल रहा है। एक किलो चीनी की कीमत 290 रुपये हो चुकी है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि यही हालात रहे तो 1989 के सिविल वॉर जैसी स्थिति बन सकती है। इसकी वजह से पलायन बढ़ने की आशंका है।

चीन सहित कई देशों के कर्ज में डूबा श्रीलंका दिवालिया घोषित हो सकता है। जनवरी में श्रीलंका का विदेशी मुद्रा भंडार 70% घटकर 2.36 अरब डॉलर रह गया है। वहीं श्रीलंका को अगले 12 महीनों में 7.3 अरब डॉलर का घरेलू और विदेशी कर्ज चुकाना है। इसमें कुल कर्ज का लगभग 68% हिस्सा चीन का है। उसे चीन को 5 अरब डॉलर चुकाने हैं।

यह भी पढ़ें : मणिपुर की सभी स्कूलों में अब होगा बड़ा बदलाव, करना होगा इस नियम का सख्ती से पालन

गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रहे श्रीलंका के लिए भारत ने मदद का हाथ बढ़ाया है। भारत ने अपने पड़ोसी देश को 90 करोड़ डॉलर से ज्यादा का कर्ज देने की घोषणा की है। इससे देश को विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ाने और खाद्य आयात में मदद मिलेगी।

श्रीलंका को चीन से कर्ज लेना भारी पड़ गया है। एक्सपर्ट्स के अनुसार श्रीलंका दिवालिया हो सकता है। श्रीलंका की इस हालत के कई कारण हैं। कोरोना संकट के कारण देश का टूरिज्म सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुआ। इसके साथ ही सरकारी खर्च में बढ़ोतरी और टैक्स में कटौती ने हालात को और बदतर बना दिया। चीन का श्रीलंका पर 5 अरब डॉलर से अधिक कर्ज है। पिछले साल उसने देश में वित्तीय संकट से उबरने के लिए चीन से और 1 अरब डॉलर का कर्ज लिया था। अगले 12 महीनों में देश को घरेलू और विदेशी लोन के भुगतान के लिए करीब 7.3 अरब डॉलर की जरूरत है।