बिहार चुनाव में सभी उम्मीदवार जनता को लुभाने में लगे हुए हैं। कोरोना काल में सभाएं बैठाते हैं और रैलियां निकाल रहे हैं। जैसे जैसे चुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है वैसे वैसे हर उम्मीदवार की टेंशने बढ़ती जा रही है। इसी तरह से तेजस्वी यादव के साथ जनसभा में एक शर्मनाक हरकत हो गई लेकिन तेजस्वी यादव बिना ऐतराज किए अपना काम करते चलते गए।


तेजस्वी यादव के साथ औरंगाबाद के कुटुम्बा विधानसभा क्षेत्र में चुनावी सभा हो रही थी। तेजस्वी यादव इसी सभा को संबोधित करने वाले थे कि इससे पहले ही भीड़ में से किसी ने तेजस्वी यादव पर चप्पल फेंक दी। एक भी नहीं दो बार चप्पलें तेजस्वी यादव पर फेंकी गई। पुलिस पता नहीं लगा पाई कि भीड़ में से आखिर किसने चप्पलें फेंकी है। एक चप्पल तेजस्वी के बगल से गुजरी और दूसरी चप्पल तेजस्वी के गोद में जा गिरी।


हैरान कर देने वाली बाच तो ये है कि तेजस्वी यादव ने जनता की इस हरकत पर ऐतराज ना जताते हुए जनसभा को संबोधित किया। इस अजीब स्थिति का सामना करने के बाद तेजस्वी यादव भाषण देकर चले गए। वैसे बता दें कि प्रचार के लिए आयोजित चुनावी रैली में ऐसा कई उम्मीदवारों के साथ हो चुका है। दिल्ली के मुख्यमंत्री को तो इन सब चीजों की जैसे आदत सी हो गई है। लेकिन एक कहावत है ने “ काम के वक्त पे गधे को भी बाप बनाना पड़ता है।”