पृथ्वी की तरफ एक बड़ा एस्टेरॉयड (Asteroid) यानि धूमकेतु बढ़ रहा है।  यह अभी पृथ्वी (Earth) से करीब 1 करोड़ 10 लाख मील यानी 1 करोड़ 77 लाख 2 हजार 784 किलोमीटर दूर है। इस एस्टेरॉयड को नष्ट करने के लिए नासा ने एक स्पेसक्राफ्ट (Spacecraft) को लॉन्च किया था, जिसने उस एस्टेरॉयड की पहली तस्वीर भेजी है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, नासा (NASA) का स्पेसक्राफ्ट अभी धरती से 20 लाख मील यानी 32 लाख 18 हजार 688 किलोमीटर की दूरी पर पहुंचा है। स्पेसक्राफ्ट ने DRACO टेलीस्कोप कैमरा (Telescope Camera) की मदद से एस्टेरॉयड की फोटो खींचकर भेजी है।

गौरतलब है कि अगर एस्टेरॉयड को नष्ट करने में नासा का स्पेसक्राफ्ट सफल रहता है तो स्पेस डिफेंस के क्षेत्र में इसे बड़ी उपलब्धि माना जाएगा। ये स्पेसक्राफ्ट किसी हीरो की तरह धरती को एस्टेरॉयड से बचाएगा। नासा डबल एस्टेरॉयड रिडायरेक्शन टेस्ट (DART) के तहत इस मिशन को कर रहा है।

स्पेसक्राफ्ट ने लॉन्चिंग के दो हफ्ते बाद एस्टेरॉयड की तस्वीर भेजी है। कैलीफोर्निया के बेस से इस स्पेसक्राफ्ट को लॉन्च किया गया था। ध्यान देने वाली बात है कि DART का ये मिशन सितंबर, 2022 में पूरा होगा। स्पेसक्राफ्ट इस यात्रा के दौरान एस्टेरॉयड की और तस्वीरें भेजेगा।

DART का ये स्पेसक्राफ्ट 15 हजार मील प्रति घंटे यानी करीब 24 हजार 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से एस्टेरॉयड से टकराएगा। जब ये स्पेसक्राफ्ट एस्टेरॉयड से टकराएगा तब अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा और यूरोपियन स्पेस एजेंसी के वैज्ञानिक टेलीस्कोप की मदद से इसकी जांच करेंगे कि DART मिशन सफल हुआ या नहीं। इस मिशन के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए स्पेसक्राफ्ट के साथ एक छोटा क्यूबसेट भी अंतरिक्ष में भेजा गया जो डेटा पृथ्वी पर भेज रहा है।