उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव (UP Assembly elections) में समाजवादी पार्टी (सपा) (SP) अधिक से अधिक ब्राह्मण उम्मीदवारों (Brahmin candidates) को मैदान में उतारेगी। वरिष्ठ समाजवादी नेता और पूर्व अध्यक्ष माता प्रसाद पांडे ने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (SP President Akhilesh Yadav) सत्ता में वापसी सुनिश्चित करने के लिए विशेष रूप से पूर्वी यूपी में अधिक से अधिक ब्राह्मण उम्मीदवारों को मैदान में उतारेंगे।

पांडे अंबेडकर नगर के कठेरी विधानसभा क्षेत्र में पार्टी द्वारा आयोजित ब्राह्मण सम्मेलन (brahmin convention) में बोल रहे थे।उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा ब्राह्मणों को सताया गया है और समुदाय में गुस्सा साफ है। ब्राह्मणों, जिनकी आबादी 13 प्रतिशत है, को इस बार टिकट का एक हिस्सा मिलेगा। उन्होंने कहा कि ब्राह्मण आत्मनिर्भर हैं और सरकार से लाभ नहीं चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वे केवल सम्मान और गरिमा चाहते हैं।

सम्मेलन में भाग लेने वाले यूपी के 20 जिलों के अधिकांश ब्राह्मण नेताओं (brahmin leaders) ने पूर्व अध्यक्ष के विचारों का समर्थन किया और भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ ‘धर्म युद्ध’ की घोषणा की। समाजवादी पार्टी मायावती के सोशल इंजीनियरिंग फॉर्मूले (social engineering formula) को दोहराने की कोशिश कर रही है या नहीं, इस सवाल से बचते हुए सपा उपाध्यक्ष जयशंकर पांडे ने कहा कि प्रत्येक जिले में समाजवादी पार्टी के टिकट पर एक या दो ब्राह्मण मैदान में होंगे।