अजान-हनुमान चालीसा को लेकर लाउडस्पीकर का विवाद दिन ब दिन गहराता जा रहा है। समाजवादी पार्टी की महिला विंग की नेता रुबीना खान ने कहा है कि अगर हिंदू कार्यकर्ता अलीगढ़ में 21 क्रॉसिंग पॉइंट्स पर हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं, मुस्लिम महिलाएं मंदिरों के सामने कुरान पढ़ेंगी।

ये भी पढ़ेंः पीएम मोदी और अमित शाह की मिमिक्री कर मुस्लिम युवक ने कहे थे आपत्तिजनक शब्द, अब पुलिस ने किया ऐसा हाल


रुबीना खान के खिलाफ सिविल लाइंस थाने में भडक़ाऊ भाषण देने का मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने की मांग कर मुस्लिम समुदाय को जानबूझकर निशाना बनाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार बजरंग दल जैसे दक्षिणपंथी संगठनों के प्रति नरम है।

ये भी पढ़ेंः पाकिस्तान में नई सरकार बनते ही शुरु हुआ बवाल, इस मुख्यमंत्री पर लगा हत्या के प्रयास का आरोप


बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने रुबीना खान को ‘अनावश्यक बयान’ देने के लिए उनकी निंदा की। उन्होंने कहा कि राजनैतिक नेताओं को संवेदनशील मुद्दों का फायदा उठाने की कोशिश बंद कर देनी चाहिए। नमाज मस्जिदों में पढ़ी जानी चाहिए न कि मंदिरों के सामने। हनुमान गढ़ी मंदिर के महंत राजू दास ने भी कहा कि नेताओं को ऐसे बयान देने से बचना चाहिए जो लोगों को भडक़ाएं। उन्होंने कहा कि अगर कोई शिकायत करता है तो हम मंदिरों में लगाए गए लाउडस्पीकरों की साउंड कम कर देते हैं। मुसलमानों को भी ऐसा ही करना चाहिए क्योंकि यह जनहित के लिए है।