भारत की बेटी पीवी सिंधु ने रविवार को इतिहास रच दिया। वर्ल्ड टूर फाइनल्स के खिताबी मुकाबले में रविवार को जापान की नोजोमी ओकुहारा को सीधे गेमों में हराया। वे यह खिताब जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई। वर्ल्ड टूर फाइनल्स जीतने पर असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने सिंधु को इस शानदार जीत की बधाई दी है।


सोनोवाल ने कहा, 'इतिहास रचने के लिए पीवी सिंधु का हार्दिक बधाई, इस टूर्नामेंट को जीतने वाली सिंधु पहली खिलाड़ी बन गई हैं। हमें आप पर गर्व है।'


साल 2018 में जीता हुआ यह सिंधु का पहला टूर्नामेंट है। दुनिया की छठे क्रम की सिंधु ने दूसरी वरीयता प्राप्त ओकुहारा को 21-19, 21-17 से हराया। 62 मिनट तक चले इस मुकाबले की शुरुआत में ही भारतीय शटलर ने 14-6 की बढ़त बना ली थी, लेकिन इसके बाद जापानी खिलाड़ी ने जोरदार वापसी की।


उन्होंने 12 में से 10 अंक जीते और 16-16 के स्कोर पर सिंधु की बराबरी कर ली। सिंधु ने इसके बाद फिर लय हासिल कर यह गेम 21-19 से जीता।


सिंधु ने इस टूर्नामेंट में पहले मैच में जापान की अकाने यामागुची को हराया और फिर दुनिया की नंबर वन ताई जू यिंग को परास्त किया। उन्होंने यिंग के खिलाफ लगातार छह हार के बाद पहली जीत दर्ज की।


सिंधु ने इसके बाद अंतिम ग्रुप मैच में बेइवेन झेंग को हराया और वे ग्रुप में अपराजित रहती हुई सेमीफाइनल में दाखिल हुई। भारतीय शटलर ने इसके बाद थाइलैंड की रत्चानोक इंतेनान को हराकर खिताबी मुकाबले में जगह बनाई।


वैसे सिंधु इससे पहले इस वर्ष पांच टूर्नामेंट्स के फाइनल में पहुंची थी लेकिन उन्हें हर बार हार का सामना करना पड़ा था। सिंधु इस साल जिन स्पर्धाओं के फाइनल में हारी, उनमें विश्व चैंपियनशिप, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई गेम्स प्रमुख रूप से शामिल हैं।