महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी शुक्रवार 2 अक्टूबर को चंपारण से बिहार चुनाव के दौरान अपने कार्यक्रम का शंखनाद किया।  गांधी चेतना रैली कार्यक्रम में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की आदमकद प्रतिमा का उद्घाटन किया गया।

 इस दौरान कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रगान गाया और महात्मा गांधी के विचारों को आत्मसात करने का संकल्प लिया।  संबोधन के दौरान सोनिया गांधी ने कहा कि कुछ पार्टियां भावना, भ्रम और भय से सरकार चला रही है।  महात्मा गांधी ने अहिंसा की वकालत की।  आज उनकी नीति का पालन करना सबसे ज्यादा जरूरी है। 

वर्चुअल रैली के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार पर जोरदार हमला किया।  कहा कि यूपीए सरकार ने सूचना का अधिकार लागू किया।  आज की सरकार में सूचनाएं नहीं मिलती है।  दूसरे कानूनों की हालत भी खराब हो चुकी है।  

सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने हमेशा गरीबों के उत्थान की दिशा में कदम बढ़ाया है।  कांग्रेस ने ग्रामीण क्षेत्रों की बेरोजगारी को दूर करने के लिए मनरेगा योजना लागू की।  लेकिन, उसका विरोध किया गया।  आज कोरोना महामारी के दौरान मनरेगा योजना से लाखों लोगों को रोजगार मिला है। 

सोनिया गांधी ने वर्चुअल रैली के दौरान जिक्र किया कि महात्मा गांधी ने दलितों, कमजोरों को गले लगाया था।  उन्होंने सभी को साथ लेकर चलने का संदेश दिया।  बिहार की धरती और चंपारण की धरती को मेरा नमन है।  वर्चुअल रैली के दौरान बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी का स्वागत किया।  साथ ही उनको गांधी चेतना रैली कार्यक्रम के बारे में सारी जानकारी दी। 

बिहार के कांग्रेस प्रभारी ने भरोसा दिया कि बिहार में बाढ़ के पानी को सूखे इलाकों में ले जाया जाएगा।  कांग्रेस और गठबंधन की सरकार सभी की फिक्र करेगी।  युवाओं, किसानों के साथ ही समाज के सभी लोगों की मदद करने से पीछे नहीं हटेगी। 

कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने हाथरस का मुद्दा उठाया।  उन्होंने घटना को शर्मनाक बताते हुए उत्तरप्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधा. कहा कि इस घटना ने सरकार की पोल खोलकर रख दी है।