कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि चीन सीमा पर जंग का माहौल है और इस स्थिति से सरकार अपनी जिम्मेदारी से भाग नहीं सकती है। श्रीमती गांधी ने शुक्रवार को यहां जारी एक वीडियो संदेश में कहा कि कांग्रेस द्वारा शहीदों को नमन के लिए आयोजित ‘‘शहीदों को सलाम दिवस‘’ पर शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते है कि चीन हमारी सीमा में नहीं घुसा है तो सरकार बताये कि हमारे 20 सैनिक कैसे शहीद हुए है। चीनी सैनिक गलवान घाटी में नए निर्माण और नए बंकर बनाकर सीमाओं का उल्लंघन कर रहा है और सेटेलाइट तस्वीर साफ दिखा रही है कि चीन ने सीमा पर अपनी सैन्य स्थिति मजबूत कर ली है। 

उन्होंने कहा कि हम जानते है कि हमारी सेना के हाथों हमारा देश सुरक्षित है और कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से सरकार तथा सेना के साथ खड़ी है। चीनी घुसपैठ की विभिन्न माध्यमों से पुष्टि हो चुकी है लेकिन मोदी कहते हैं कि किसी ने कोई कब्जा नही किया है। मोदी को देश की जनता को भ्रमित करने की बजाय यह बताना चाहिए कि चीनी सैनिक कब और कैसे हमारी सीमा से बाहर होंगे। राहुल गांधी ने भी एक वीडियो संदेश में कहा कि देश की रक्षा को लेकर पूरा देश सरकार तथा सेना के साथ खड़ा है लेकिन लद्दाख की जनता, फौजी जनरल, सेटेलाइट तस्वीरे बता रही है कि चीन ने भारतीय सीमा पर एक नहीं बल्कि तीन तीन जगह कब्जा किया है तो इस सच्चाई को क्यो छिपाया जा रहा है।  

गांधी ने कहा कि चीन ने हमारी भूमि पर कब्जा कर रखा है और चीन को वापस भगाना है इसलिए मोदी को बिना डरे हुए सच बताना होगा कि चीन ने हमारी कितनी जमीन पर कब्जा किया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि हमारी फौज के बहादुर सैनिक देश की अखंडता व देश की रक्षा के लिए शहीद हुए। उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देना है। देश की एक इंच भी जमीन नहीं जाने देंगे। देश सच जानना चाहता है। 

इस बीच कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला, वरिष्ठ नेता पी राजू, जितेंद्र सिंह तथा पवन खेडा ने यह संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सेना के पूर्व जनरल बता रहे हैं कि चीन ने हमारी भूमि पर 18 किलोमीटर तक कब्जा कर दिया है लेकिन दुर्भाग्य से मोदी सरकार यह सच्चाई स्वीकार करने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि मोदी सरकार चीनी सेना की घुसपैठ की बात स्वीकार करने को तैयार नही है। मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में पांच बार चीन की सरकारी यात्रा की है और चीन हमारी जमीन पर कब्जा कर रहा है तो इस यात्रा का क्या मतलब हुआ है।