कांग्रेस की अंतरिम प्रमुख सोनिया गांधी के आवास पर शनिवार को कम से कम 15 नेता अहम बैठक के लिए पहुंचे हैं। इनमें से उन 23 नेताओं में से भी कई शामिल हैं, जिन्होंने पार्टी में सक्रिय अध्यक्ष नियुक्त करने के लिए पत्र लिखा था। इन नेताओं में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, विवेक तन्खा, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पृथ्वीराज चौहान, अंबिका सोनी, मनीष तिवारी, गुलाम नबी आजाद,पवन बंसल, हरीश रावत, आनंद शर्मा, शशि थरूर, ए.के. एंटनी और कई अन्य नेता शामिल हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व पार्टी प्रमुख राहुल गांधी के अलावा दिग्गज नेता अजय माकन भी बैठक के लिए 10, जनपथ पहुंचे हैं। 23 वरिष्ठ नेताओं द्वारा सक्रिय अध्यक्ष की मांग के लिए सोनिया गांधी को पत्र लिखे जाने के बाद कांग्रेस की यह पहली बैठक है। शुक्रवार को कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा था कि कोविड-19 प्रोटोकॉल के कारण सोनिया गांधी काफी समय से व्यक्तिगत तौर पर रुबरू होकर मिलने में असमर्थ थीं।

सुरजेवाला ने कहा था, अब उन्होंने फैसला किया है कि कल से वह विभिन्न संगठनात्मक मुद्दों को लेकर मिलना शुरू करेंगी। इसलिए यह नेताओं के किसी विशेष समूह या असंतुष्टों या विद्रोहियों के साथ उनकी बैठक नहीं है बल्कि हम हर नेता और कार्यकर्ता को हमारे परिवार का हिस्सा मानते हैं। उन्होंने आगे कहा कि पार्टी ने पार्टी के कुछ वरिष्ठ सदस्यों द्वारा उठाए गए मुद्दों को संबोधित किया है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रक्रिया चल रही है, अगले चुनाव की घोषणा के साथ सभी मुद्दे हल हो जाएंगे। पार्टी के अंदर किसी भी तरह के असंतोष को लेकर कोई आंतरिक मुद्दे नहीं हैं।’’ सुरजेवाला ने कहा, ‘‘भाजपा कभी-कभी ऐसे प्रचार करती रहती है। लेकिन हम एक परिवार हैं और हम एक साथ काम करेंगे और हम पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करेंगे।’’