भारत और ब्रिटेन (India and Britain) के सैनिक करीब दो सप्ताह तक चलने वाले सैन्य अभ्यास के दौरान एक दूसरे के साथ तालमेल बढाने और श्रेष्ठ रण कौशल के अनुभव साझा करेंगे। दोनों देशों की सेनाओं के बीच उत्तराखंड के चौबटिया में आज से शुरू हुआ सैन्य अभ्यास अजेय वारियर 20 अक्टूबर तक चलेगा। 

अभ्यास में भारतीय सेना (Indian Army) की इन्फेंट्री की एक कंपनी और ब्रिटिश सेना की एक कंपनी देश में विभिन्न अभ्यासों तथा अन्य देशों के साथ अभ्यासों में हासिल की गयी विशेषता तथा रण कौशल और अनुभव को एक दूसरे के साथ साझा करेंगे। वे इस दौरान परस्पर तालमेल बढाने तथा संयुक्त रूप से अभियान चलाने का भी अभ्यास करेंगे। इससे दोनों सेनाओं को लाभ मिलेगा और वे एक दूसरे से सीखेंगी। 

अभ्यास के दौरान वे एक दूसरे के हथियारों , उपकरणों , तकनीक और संयुक्त रूप से अभियान चलाने का भी प्रशिक्षण लेंगे। साथ ही संयुक्त सैन्य अवधारणा, संयुक्त सेना में अनुभव साझा करने और आपरेशन संबंधी लोजिस्टिक्स पर भी व्यापक चर्चा की जायेगी। इसके बाद 48 घंटे के एक विशेष अभ्यास में दोनों सेनाओं को इस कसौटी पर परखा जायेगा कि उन्होंने अभ्यास के दौरान क्या सीखा। इस अभ्यास से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में सुधार के साथ साथ मैत्री के पारंपरिक संबंध और प्रगाढ बनेंगे।