भारतीय मार्केट में स्मार्टफोन महंगे होने शुरू हो गए हैं। पिछले कुछ महीनों के दौरान कंपोनेंट्स और चिप की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से इनकी कीमतों में तेजी देखी जा रही है। दुनिया भर में चिप की सप्लाई में बाधा पड़ी है। इसलिए स्मार्टफोन के दाम में तेजी देखी जा रही है। इसके अलावा डिस्प्ले पैनल, बैक पैनल, बैटरी पैक जैसे कंपोनेंट्स  की लागतें बढ़ गई हैं। इसका असर भी स्मार्टफोन की कीमतों में पड़ रहा है। इसके साथ ही रुपये का डॉलर के मुकाबले महंगा होना भी भारतीय बाजार में स्मार्टफोन को महंगा कर रहा है।

मार्केट में पिछले कुछ दिनों कई मशहूर ब्रांड के स्मार्टफोन महंगे हो गए हैं। हाल में शाओमी नोट 10 की कीमत में कम से कम 500 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। दुनिया भर में ताइवान सेमी कंडक्टर  की सप्लाई करने वाला सबसे बड़ा देश है। वह चिप की भी सप्लाई करता है। लेकिन पूरी दुनिया से आ रही मांग के दबाव को वह सह नहीं पा रहा रहा है। मांग के हिसाब से वह सप्लाई करने में नाकाम है। कार कंपनियों को भी सेमी कंडक्टर  की जरूरत पड़ती है। उन्हें भी इस वक्त सेमीकंडक्टर की किल्लत हो रही है। जहां तक स्मार्टफोन इंडस्ट्री का सवाल है तो चिप की कमी के साथ ही डिस्प्ले पैनल, बैक पैनल और बैटरी पैनल की लागतें भी बढ़ी हैं। इसका असर भी कीमतों पर पड़ रहा है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा ट्रेंड के मुताबिक पुराने मॉडल के स्मार्टफोन की कीमतों में चार से पांच फीसदी की बढ़ोतरी तय है। देश में लगातार स्मार्टफोन की बिक्री बढ़ रही है। अगर कीमतें बढ़ती है स्मार्टफोन में बिक्री की तेजी में थोड़ी गिरावट आ सकती है। कोरोना संक्रमण के इस दौर में जब लोगों की कमाई घट रही है तो स्मार्टफोन की महंगाई उन पर भारी पड़ेगी।