बचतकर्ताओं को संतोष देने वाले एक निर्णय के तहत सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी), लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) जैसी लघु बचत योजनाओं पर एक जुलाई से शुरू होने वाली दूसरी तिमाही के लिये ब्याज दरों को पूर्ववत रखा है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई से सितंबर) में एनएससी पर 6.8 फीसद और पीपीएफ पर 7.1 फीसद सालाना की ब्याज दर बनी रहेगी। आपको बता दें लगातार पांचवी तिमाही में सरकार ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। 

बता दें कि NSC में सालाना ब्याज 6.8 फीसदी है। वहीं सुकन्या समृद्धि योजना में 7.6 फीसदी,  SCSS में 7.4 फीसदी, PPF पर 7.1 फीसदी, किसान विकास पत्र  में 6.9 फीसदी, मंथली इनकम स्कीम में 6.6 फीसदी, डाकघर की रिकरिंग डिपॉजिट योजना में 5.8 फीसदी, 5 साल की टाइम डिपॉजिट स्कीम पर 6.7 फीसदी और सेविंग डिपॉजिट पर सालाना ब्याज दर 4 फीसदी है।

केंद्र सरकार ने पिछली तिमाही ब्याज दरों में पहले 1.1 फीसदी कटौती का ऐलान किया था, लेकिन अपने इस फैसले को सरकार ने 24 घंटे के अंदर ही वापस ले लिया था। वित्तमंत्रालय ने कहा था कि वह गलती से हो गया है और अपने उस फैसले को तुरंत वापस ले लिया था। बता दें कि स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स पर ब्याज दरों की समीक्षा प्रत्येक तिमाही की जाती है। डाकघर की स्माल सेविंग्स स्कीम बेहद पॉपुलर योजनाएं हैं। डाकघर में निवेशकों के जम पैसों पर सुरक्षा की पूरी गारंटी होती है। यहां पैसे सेफ रहते ही हैं, वहीं एक स्टेबल रिटर्न भी मिलता है।