त्रिपुरा में स्थानीय लोगों द्वारा एक अति दुर्लभ प्रजाति के 6 अजगरों को सरेराह काटने और फिर उन्हें खा जाने का घिनौना मामला सामने आया है। अजगरों को काटने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही हैं। जिसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि अजगरों को काटने की घटना त्रिपुरा-मिजोरम बॉर्डर के नजदीक सिमलुंग इलाके की बतायी जा रही है। जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले एनजीओ पावसम का दावा है कि जिन अजगरों को मारा गया, वो दुर्लभ प्रजाति के थे।


पावसम के महासचिव ऋग्वेद दत्ता ने बताया कि दुर्लभ प्रजाति के 6 अजगरों को खाने के लिए काट डाला गया। जंगलों और वन्यजीवों को नष्ट करने की यह प्रक्रिया सालों से चलती आ रही है, लेकिन इसके खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं की गई है। हमारी मांग है कि इस पर तत्काल रोक लगनी चाहिए।

चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन डीके शर्मा ने बताया कि इस घटना की तस्वीरों से उन्हें इसकी जानकारी हुई। फिलहाल संबंधित फोरेस्ट डिवीजन को इस मामले में जल्द से जल्द रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया गया है।


अधिकारियों ने माना कि त्रिपुरा-मिजोरम बॉर्डर पर बीते कई सालों से दुर्लभ जीवों की हत्या की घटनाएं जारी हैं।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360