कोरोना वायरस कहर के बीच 'सिंगापुर वेरिएंट' को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक ट्वीट से बवाल मच गया है। सिंगापुर वेरिएंट वाले अरविंद केजरीवाल के बयान पर भड़के सिंगापुर ने न सिर्फ अरविंद केजरीवाल के बयान को खारिज किया है, बल्कि सिंगापुर सरकार ने भारतीय उच्चायुक्त को तलब कर सख्त आपत्ति भी जताई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने जानकारी दी है कि अरविंद केजरीवाल के ट्वीट पर सिंगापुर ने कड़ी आपत्ति जताने के लिए हमारे उच्चायुक्त को तलब किया।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि सिंगापुर सरकार ने सिंगापुर वेरिएंट को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ट्वीट पर कड़ी आपत्ति व्यक्त करने के लिए आज हमारे उच्चायुक्त को बुलाया। इसके बाद उच्चायुक्त ने भारत की ओर से जवाब दिया और स्पष्ट किया कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के पास कोरोना के वेरिएंट या नागरिक उड्डयन नीति पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है।

इससे पहले अरविंद केजरीवाल के ट्वीट पर सिंगापुर ने ट्वीट कर मंगलवार को मुख्यमंत्री के उस दावे को खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि सिंगापुर में पाया गया कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन भारत में संक्रमण की तीसरी लहर ला सकता है। सिंगापुर ने कहा है कि 'B.1.617.2'वैरिएंट हाल में आए कोरोना के कई मामलों में पाया गया है और यह भारत में ही सबसे पहले मिला था।

साथ ही सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से भारतीय मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुए एक बयान जारी किया गया और कि इन रिपोर्टों में कोई सच्चाई नहीं है। बयान के मुताबिक, 'कोई सिंगापुर वेरिएंट नहीं है। कोरोना का B.1.617.2 स्ट्रेन हालिया हफ्तों में कई मामलों में पाया गया है और यह भारत में ही सबसे पहले मिला था।' भारत में सिंगापुर के दूतावास ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ट्वीट को कोट करते हुए भी यह बयान जारी किया है। इससे पहले दिल्ली सीएम केजरीवाल ने केंद्र से अपील की थी कि वह सिंगापुर से आने वाली उड़ानों को तुरंत सस्पेंड करे। उन्होंने कहा था कि सिंगापुर में कोरोना का नया वेरिएंट मिला है जो बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है।