सरकार व पशुपालन विभाग की ओर से अब याक पालने वालों को 45.90 लाख रूपए दिए जाएंगे है। ये आदेश सिक्किम हाईकोर्ट ने दिए हैं। हाईकोर्ट ने यह आदेश एकमुश्त राशि देने के लिए दिए हैं। आपको बता दें कि राज्य के मुगुतांग, लश्यार घाटी और लाछेन घाटी में भारी बर्फबारी हुई थी इस दौरा भूख के कारण 300 याक की मौत हो गई थी जिसकी एवज में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार व पशुपालन विभाग को यह राशि देने का आदेश दिया है।

हाईकोर्ट की डिविजन बैंच में शामिल चीफ जस्टिस अरूप कुमार गोस्वामी तथा जस्टिस भास्कर राज प्रधान ने ये आदेश दिए हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि याक मालिकों को इस राशि का भुगतान चार महीनों के अंदर करना होगा। इसके अलावा यह भी कहा कि राज्य में पशु चारे के लिए उचित उपाय नहीं किए गए थे इस वजह से यह घटना हुई।

हालांकि अपनी अपील में सरकार की तरफ से कहा गया था कि लाछेन घाटी में घास के 10 गोदाम याकों के भोजन के लिए बनाए गए थे। हालांकि ऐसा धरातल पर नहीं पाया गया। इसके अलावा मुगुथांग व लाशेर घाटी में भी हालात ऐसे ही पाए गए। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने राज्य के पशुपालन विभाग को भी इस तरह की आपदा से निपटने के लिए समुचित उपाय करने के लिए कहा है।