आगामी विधानसभा चुनाव में पंजाब कांग्रेस की राह इस बार आसान नहीं दिख रही है। पिछले चुनाव में पार्टी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) के नेतृत्व जीत हासिल की थी। लेकिन इस बार कांग्रेस में दरार साफ देखा जा सकता है। इस बार पार्टी चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi), सुनील जाखड़, नवजोत सिद्धू (Navjot Sidhu) सहित कई खेमों में बंटी हुई दिख रही है। 

सभी पंजाब का मुख्यमंत्री बनने की लालसा रखते हैं। सीएम चन्नी ने कहा कि पंजाब में कांग्रेस को जीतना है तो मुख्यमंत्री का नाम घोषित करना होगा। इसके चवाब में सिद्धू ने कहा सीएम का चेहरा कांग्रेस हाईकमान नहीं बल्कि जनता चुनेगी। ऐसे में पंजाब विधानसभा चुनाव कांग्रेस के लिए अग्नि परीक्षा से कम नहीं होगी।

पत्रकारों को सिद्धू ने कहा कि जनता विधायकों को चुनती है और राज्य में वही अपना मुख्यमंत्री भी चुनेगी, कांग्रेस आलाकमान नहीं। सिद्धू का यह जवाब पत्रकारों के इस सवाल पर आया कि मतदान के बाद पंजाब में कांग्रेस पार्टी का मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा?

साथ ही सिद्धू ने साफ किया कि पंजाब की जनता ने ही निर्णय किया था कि कौन विधायक बनेगा या नहीं और पंजाब की जनता ही मुख्यमंत्री का चयन करेगी। उन्होंने आगे कहा कि इसलिए किसी को अपने मन गलतफहमी पालने की जरुरत नहीं है। पंजाब के लोग ही विधायक चुनकर भेजेंगे और राज्य की जनता ही मुख्यमंत्री भी बनाएगी।