उत्तर प्रदेश (UP) के लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri) जा रहे पंजाब और हरियाणा के प्रमुख कांग्रेस नेताओं को उनके काफिले के साथ सहारनपुर-शामली सीमा पर ही रोक लिया। सहारनपुर-हरियाणा सीमा पर सरसावा थाने की शाहजहांपुर पुलिस चौकी के तहत पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू से सहारनपुर के कमिश्नर डॉ. लोकेश एम,मेरठ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक राजीव सब्बरवाल, डीआईजी सहारनपुर रेंज डॉ. प्रीतिन्द्र सिंह, डीएम अखिलेश सिंह और एसएसपी डॉ. एस चनप्पा बातचीत कर रहे हैं।

डीआईजी डॉ. प्रीतिन्द्र सिंह ने गुरूवार शाम यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने सिद्धू को यह स्पष्ट बता दिया है कि वे पांच लोगों के साथ ही लखीमपुर खीरी जा सकते हैं। सिद्धू (Sidhu) के साथ पंजाब के कई विधायक, कांग्रेस कार्यकर्ताओ के करीब 250 वाहनों के साथ आ रहे थे। उन्हें सरसावा इलाके में राज्य की सीमा पर शाहजहांपुर पुलिस चौकी के पास रोकने के लिए पुलिस प्रशासन ने बेरिकेटिंग कर रखी थी। 

उन्होंने बताया कि काफिले को रोकने पर आक्रेशित कांग्रेस कार्यकर्ता बेरिकेटिंग पर चढ़ गए, कुछ बेरिकेटिंग को जोर-जबरदस्ती से हटा दिया। वहां बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है। पुलिस एवं प्रशासन के आला अधिकारी नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को समझाने की कोशिश कर रहे हैं। डॉ. प्रीतिन्द्र सिंह ने बताया कि सहारनपुर रेंज के शामली में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Former CM Bhupendra singh Hudda), पूर्व केंद्रीय मंत्री शैलजा चौधरी (Union Minister Shailja Choudhary) 40 वाहनों के काफिलें के साथ हरियाणा से शामली जिले में प्रवेश कर गए। 

जहां पुलिस ने उनको लखीमपुर जाने से रोक दिया। उन्होंने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा से आग्रह किया था कि पांच लोगों के साथ वे लखीमपुर खीरी जा सकते हैं ,लेकिन हुड्डा नहीं माने और अपने काफिलें साथ लखीमपुर खीरी जाने की जिद्द पर अड़े रहे। लंबी जद्दोजेहद के बाद पुलिस प्रशासन ने हुड्डा के काफिले को हरियाणा वापस लौटा दिया। लेकिन सहारनपुर के सरसावा क्षेत्र में सिद्धू और उनके समर्थक हंगामा कर नारेबाजी कर रहे हैं और लखीमपुर खीरी जाने की जिद्द पर अड़े हैं।