आंवला (Amla) खाना सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है, लेकिन कुछ समस्याओं में इसें खाना नुकसान भी पहुंचा सकता है। हम आपको ऐसी बीमारियों के बारे में बता रहे हैं जिनके होने पर आंवले का सेवन नहीं करना चाहिए—
आंवला हाई ब्लड शुगर लेवल को कम करता है। लेकिन अगर आपका ब्लड शुगर लेवल पहले से लो है और आप एंटी डायबिटीक दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो आंवले का सेवन न करें।

अगर आपकी कोई सर्जरी होने वाली है तो आंवले का सेवन न करें। सर्दियों में आंवले का अधिक सेवन खून को पतला कर देता है जिससे ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। लंबे समय तक रक्तस्राव से टिशू हाइपोक्सिमिया, सीवीआर एसिडोसिस या मल्टी ऑर्गन डिसफंक्शन की स्थिति भी पैदा हो सकती है। सर्जरी से दो हफ्ते पहले आंवले का सेवन बंद कर दें।

आंवला में विटामिन सी की प्रचुर मात्रा होती है। यह गुण अम्लीय प्रकृति में योगदान देता है। इससे हार्ट बर्न की समस्या दूर होती है, लेकिन अगर आप हाइपरएसिडिटी से पीड़ित हैं, तो आंवले का सेवन न करें। हाइपरएसिडिटी की समस्या में आंवले के सेवन से पेट में जलन पैदा हो सकती है और आपकी तबीयत बिगड़ सकती है।

अगर आप ड्राई स्किन और ड्राई स्कैल्प की समस्या से पीड़ित हैं, तो आंवला न खाएं। इससे आपकी सेहत बिगड़ सकती है। आंवला खाने से डैंड्रफ, खुजली और बाल झड़ने की समस्या हो सकती है। इससे डिहाइड्रेशन की प्रॉब्लम हो सकती है।

आंवला के अंदर एंटीप्लेटलेट गुण होते हैं, जो आपके शरीर में रक्त के थक्के को बनने से रोकते हैं। ये आपको हार्ट अटैक और स्ट्रोक के खतरे से बचाता है, लेकिन अगर आपको पहले से रक्त संबंधी समस्या है, तो आंवला न खाएं। Amla के सेवन से रक्त पतला हो जाता है और ब्लड क्लॉट नहीं होता। ब्लीडिंग डिसऑर्डर से पीड़ित लोगों को आंवले के सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।