एक स्वस्थ काया के लिए अक्सर फलों और सब्जियों के सेवन की सलाह दी जाती है। केवल स्वस्थ काया ही नहीं, बल्कि बहुत सी बीमारियों से राहत पाने के लिए भी फलों का सेवन आवश्यक माना जाता है। इन्हीं फलों में सबसे खास है अनार। अनार अपने स्वाद के साथ - साथ अपने गुणों के लिए भी प्रसिद्ध है। अनार के दानों से लकेर इसके छिलके यहां तक की इसके पेड़ पर लगने वाले फूलों का उपयोग भी कई समस्याओं में किया जाता है। 

ऐसे में अगर आपको डायबिटीज है तो आपको अनार के फूलों का उपयोग जरूर करना चाहिए। डायबिटीज के मरीज को ब्लड ग्लूकोज लेवल को नियंत्रित करना होता, जो काम अनार के फूलों से किया जा सकता है। दरअसल अनार के फूलों में एंटीऑक्सीडेंट गुण और फाइटोकेमिकल्स रिसर्वर होता है। जिसके जरिए डायबिटीज के कारण होने वाली अन्य समस्याओं को कम किया जा सकता है। अनार के फूल के अंदर पीपीएआर -अल्फा/गामा प्रॉपर्टीज होती है। अनार के फूल के यह गुण फैटी एसिड अपटेक और ऑक्सीडेशन, सूजन और वैस्कुलर फंक्शन को न केवल नियंत्रित करने का काम करते हैं। बल्कि यह ब्लड ग्लूकोज लेवल को भी संतुलित करके रखते हैं।

डायबिटीज के मरीज अनार के फूलों के सप्लीमेंट को डायबिटीज की दवाओं के साथ ले सकते हैं। इसके जरिए कॉग्निटिव फंक्शन सही तरह होता है। वहीं अगर आपको डायबिटीज होने का खतरा बना हुआ है तो आप अनार के कच्चे फूलों को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। इससे डायबिटीज होने का खतरा कुछ हद तक कम हो सकता है, लेकिन अगर आपको इसके सेवन से किसी तरह की एलर्जी या अन्य दिक्कत हो तो इसका सेवन बंद कर दें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।