अमरीका ने अफगानिस्तान से अपने सैनिकों की वापसी की समयसीमा 31 अगस्त से पहले एक और आतंकवादी हमले की चेतावनी दी है वहीं 500 अमेरिकी नागरिक वापस लौटने के लिए प्रतीक्षारत हैं। अमेरिकी प्रशासन ने कहा है कि अफगानिस्तान से उनके सैनिकों की वापसी के लिए समयसीमा बढ़ाने की कोई योजना नहीं है। 

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने एक बयान में कहा है कि महीना समाप्त होने से पहले काबुल में एक और आतंकी हमला होने की आशंका है। उन्होंने कहा , खतरा बरकरार है। हमारे सैनिक अभी भी खतरे में हैं। विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा है कि अमेरिकी नागरिकों, स्थानीय रूप से कार्यरत कर्मचारियों और विशेष अप्रवासी वीजा वाले अफगानों सहित विशिष्ट समूहों को अफगानिस्तान से बाहर निकालना हमारी प्रतिबद्धता है। 

बता दें कि काबुल हवाई अड्डे पर एक दिन पहले हुए दो आत्मघाती हमले के बाद आज गोलियां चलने की खबर है। अल जजीरा की रिपोर्ट के अनुसार, काबुल एयरपोर्ट के पूर्वी गेट के पास यह फायरिंग की गई है। अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस फायरिंग के पीछे किसका हाथ है। रिपोर्ट में यह भी बताया जा रहा है कि हमले के बाद भी एयरपोर्ट के बाहर अब भी हजारों अफगानों की भीड़ मौजूद है। गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुए आत्मघाती हमले में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में 13 अमेरिकी सैनिक भी शामिल हैं। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी समूह इस्लामिक स्टेट ने ली है। अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने एक और अलर्ट जारी किया है कि आईएसआईएस के आतंकी कई अन्य हमले करने के भी फिराक में हैं।