देश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की रफ्तार में काफी गिरावट आ चुकी है लेकिन अभी भी वायरस के संक्रमण का खतरा लगातार बना हुआ है। विशेषज्ञ लगातार त्योहारी सीजन (Festive Season) में सावधानी बरतने की सलाह दे रहे हैं। इस बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल (ICMR) रिसर्च ने कोरोना संक्रमण को लेकर हैरान करने वाला खुलासा किया है। आईसीएमआर द्वारा किए गए सीरो सर्वे (Serosurvey) में यह बात सामने आई है कि महामारी के दौर में देश में करीब 60 प्रतिशत बच्चे भी कोरोना वायरस संक्रमण से ग्रसित हुए थे।

आईसीएमआर (ICMR) ने बताया कि सीरो सर्वे में यह बात सामने आई है कि कोरोना महामारी के दौर में सिर्फ बुजुर्ग और युवक ही संक्रमित नहीं हुए हैं। सर्वे में खुलासा हुआ है कि लगभग 60 प्रतिशत बच्चे भी वायरस की चपेट में आए थे। हालांकि एक राहत की बात है कि बच्चों में मृत्यु दर काफी कम थी।

दिल्ली एम्स के डॉ. संजय राय ने बताया कि बच्चों की इम्यूनिटी पावर मजबूत होने की वजह से वायरस ज्यादा उन्हें प्रभावित नहीं कर सका। उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से बच्चों में मृत्यु दर दस लाख में 2 ही है जो बहुत कम है। बच्चों के लिए कोरोना के टीके फायदेमंद रहेंगे या नहीं इस पर उन्होंने कहा कि फिलहाल अभी तक इस बारे में कोई ऐसा अध्ययन नहीं सामने आया जिससे यह साबित हो कि टीका बच्चों के लिए बहुत फायदे मंद होगा।