रक्षा मंत्रालय के सबसे बड़े थिंक टैंक यूनाइटेड सर्विस इंस्टीट्यूशन ऑफ इंडिया (USI) की रिपोर्ट में हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि सेना में तनाव को लेकर एक साल तक रिसर्च की गई है। इसके आधारित परिणाम चौंकाने वाले सामने आए हैं कि भारतीय सेना के सैनिकों को जानलेवा तनाव दे रही है। मतलब की भारतीय सैनिक ज्यादा तनाव ले रहा है। यह तनाव ज्यादातर सीनियर अफसरों के व्यवहार की वजह से हो रहा है।


रिपोर्ट में साफ साफ बताया गया है कि सैनिकों में तनाव की सबसे बड़ी वजह सही समय पर छुट्टी न मिलना है और नाकाबिल है। इसी के साथ सबसे ज्यादा जो चीज सैनिकों में तनाव पैदा करती है वह ये है कि युवा अफसरों को अपने सीनियर्स के ढुलमुल फैसले, अयोग्य अफसरों के नीचे काम करने, बेकार कामों के आदेश देना और नामुमकिन समय में पूरा करने के आदेश से हैं। इन्ही बातों के कारण जवान सबसे ज्यादा परेशान रहते हैं और धीरे धीरे तनाव का शिकार हो जाते हैं।


भारतीय सैनिकों में सबसे ज्यादा कमी मनोरंजन की बताई गई है। सैनिक अपने आपको समय नहीं दे पा रहे हैं। क्योंकि लंबी ड्यूटी और बेवजह के काम करने में ही उनका साला समय खत्म हो जाता है। बहुत ज्यादा काम, आराम के लिए समय न मिलना और घरेलू परेशानियां, सीनियर अफसरों के साथ बातचीत कम होना जवानों सबसे ज्यादा जकड़कर रखी हुई है। यही कारण है कि सैनिकों का तनाव बढ़ता जा रहा है। अगर ज्यादा तनाव बढ़ जाता है तो देश की सुरक्षा के लिए खतरा हो सकता है। तो रक्षा मंत्रालय को इस बारे में विचार करना चाहिए।