भोपाल. रतलाम जिले में हिंदुओं के गांव छोड़कर (Hindus to leave the village) जाने की चेतावनी से सरकार में हड़कंप मच गया. एसपी-कलेक्टर बुधवार सुबह भारी फोर्स के साथ सुराना गांव (Surana village )पहुंच गए. यहां दोनों धर्म के लोगों से बात की. अफसरों ने चौपाल में कहा कि गांव में पुलिस चौकी बनेगी. जिन लोगों पर तीन अपराध दर्ज हैं, उन्हें जिलाबदर किया जाएगा. एक महीने में सभी अवैध कब्जे तोड़े जाएंगे. इधर, गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Dr. Narottam Mishra)  ने कहा कि वह पीडि़तों की सुरक्षा के लिए जिला प्रशासन से बात करेंगे. मध्यप्रदेश शांति का टापू है, यहां कोई भी भय का वातावरण नहीं फैला सकता है.

सुराना गांव के हिंदुओं ने मुस्लिमों की प्रताडऩा से तंग आकर मंगलवार को कलेक्ट्रेट जाकर गांव छोडऩे की चेतावनी दी थी. बुधवार सुबह कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम और एसपी गौरव तिवारी सहित प्रशासनिक अमला गांव पहुंचा. गांव में लगी चौपाल में हिंदुओं का गुस्सा पुलिस प्रशासन पर दिखा. सभी ने एक स्वर में पुलिस कार्रवाई नहीं होने से परेशानी बढऩे की बात कही. कलेक्टर ने सभी से चर्चा के बाद कहा कि गुंडा कोई भी हो, कितना भी मजबूत दिखाता हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा. सुराना के हिंदुओं ने कहा था कि प्रशासन मुस्लिमों से बचाए, वरना तीन दिन में गांव छोड़ देंगे.

बदमाशों की संपत्ति जब्त होगी, जिलाबदर की कार्रवाई भी

एसपी-कलेक्टर ने दोनों समुदाय के लोगों के बीच बैठक की. गांव में शांति बनाए रखने के लिए पांच बिंदु तय किए गए. तय हुआ कि गांव में अस्थायी पुलिस चौकी बनेगी. तीन से ज्यादा केस वाले लोगों को जिलाबदर किया जाएगा. एक महीने के अंदर सभी अवैध कब्जे हटाए जाएंगे. सौहार्द बिगाडऩे वालों पर कार्रवाई होगी, संपत्ति जब्त करने से लेकर जिलाबदर तक की कार्रवाई होगी. गांव में एक कमेटी बनेगी. कमेटी में दोनों समुदाय से दो-दो लोग और ग्रामीण एसडीएम कृतिका भी शामिल रहेंगी.