मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने शनिवार को कहा कि गाय अपने गोबर और मूत्र के साथ देश (Cow with its dung and urine can play an important role in strengthening the country's economy) की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अहम भूमिका निभा सकती है. 

भोपाल में भारतीय पशु चिकित्सा संघ (Indian Veterinary Association)  की महिला विंग के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, गाय या बैल के बिना बहुत सारे काम आगे नहीं बढ़ सकते. इसलिए, वे बहुत महत्वपूर्ण हैं. यदि एक उचित व्यवस्था की जाती है तो गाय, उनका गोबर और मूत्र राज्य के साथ (make many important substances from dung and urine)  ही देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं.

उन्होंने आगे कहा, हम समर्थन देने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं. और इस क्षेत्र में महिलाओं के योगदान से मुझे यकीन है कि हम सफल होंगे. गोबर और मूत्र से आप कई महत्वपूर्ण पदार्थ बना सकते हैं, जिसमें कीटनाशकों से लेकर दवा तक शामिल हैं.

मध्य प्रदेश में देश का पहला गौ अभयारण्य है, जिसकी नींव आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रखी थी. पिछले साल, राज्य में भाजपा सरकार ने छह विभागों के मंत्रियों के साथ एक गौ कैबिनेट (गाय कैबिनेट) के गठन की घोषणा की थी, जो राज्य में गायों के संरक्षण और गाय उत्पादों को बढ़ावा देने की दिशा में काम करेंगे.

मध्य प्रदेश में 2018 के विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस के घोषणापत्र में भी गायों पर ध्यान केंद्रित किया गया था, जिसमें देश की सबसे पुरानी पार्टी ने हर पंचायत में गौशालाएं बनाने और गौमूत्र (गोमूत्र) का व्यावसायिक उत्पादन शुरू करने का वादा किया था. कांग्रेस ने कई और गाय अभयारण्य बनाने और उनके रखरखाव और रखरखाव के लिए अनुदान प्रदान करने का भी वादा किया था.