बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में शिवसेना भी अपना किस्मत आजमा रही है।  ऐसे में चुनाव आयोग ने शिवसेना को चुनाव चिन्ह आवंटित कर दिया है।  आयोग ने शिवसेना को बिस्किट चुनाव चिन्ह आवंटित की है।  लेकिन शिवसेना ने इस पर आपत्ति दर्ज की है। 

बताया जा रहा है कि शिवसेना ने चुनाव आयोग से ट्रैकटर पर बैठा किसान, बल्ला या गैस सिलेंडर चुनाव चिन्ह देने की मांग की थी।  लेकिन आयोग ने शिवसेना बिहार यूनिट की मांग नहीं मानी। 

ऐसे में इस संबंध में शिवसेना ने आयोग से फिर से विचार करने को कहा है और अब पार्टी नेता आयोग के जवाब के इंतजार में है।  इससे पहले स्थानीय पार्टी जनता दल यूनाइटेड शिवसेना को धनुष-बाण चुनाव चिन्ह देने पर आपत्ति जता चुकी है।  जेडीयू का कहना है कि शिवसेना के धनुष-बाण चुनाव चिन्ह की वजह से उनके मतदाता कंफ्यूज हो सकते हैं और इसका परिणाम मतदान पर पड़ सकता है। 

बिहार की रीजनल पार्टी नहीं होने की वजह से चुनाव आयोग शिवसेना को धनुष-बाण चिन्ह नहीं देने का फैसला पहले ही कर चुका है।  बताया जा रहा है कि शिवसेना बिहार में 50 के करीब सीटों पर चुनाव लडऩे की तैयारी में है।  इसके अलावा एनसीपी, बसपा, जेएमएम भी चुनावी मैदान में है।