केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के पुणे में कल हिंदुत्व के संबंध में की गयी टिप्पणी पर शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत (sanjay raut) सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) (BJP) पर निशाना साधा और कहा कि शाह क्या कहना चाहते हैं उसे वह खुद ही नहीं समझते। राउत संवाददाताओं से कहा, शाह कल पुणे में क्या कहना चाहते थे, अपने भाषण में, वह खुद ही नहीं समझते हैं।

राउत ने कहा कि शिवसेना (Shiv Sena) हिंदुत्ववादी पार्टी (Hindutvawadi party) थी और देश में हमेशा हिंदुत्ववादी पार्टी रहेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं को शिवसेना को हिंदुत्व का पाठ नहीं पढ़ाना चाहिए क्योंकि शिवसेना की वजह से भाजपा इतनी बड़ी पार्टी बन पायी। उन्होंने कहा कि भाजपा की पोल अब खुल रही है। हाल ही में भाजपा शासित कर्नाटक राज्य में छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) की प्रतिमा पर असामाजिक तत्वों द्वारा स्याही फेंकी गयी थी, उस पर वहां के मुख्यमंत्री ने एक बयान कहा था कि यह एक छोटी सी घटना है, इसके लिए राज्य में विरोध या पथराव करने की जरूरत नहीं है। इससे पता चलता है कि भाजपा कितनी हिंदुत्ववादी है। 

राउत ने कहा कि वर्ष 2014 में भाजपा नेताओं ने कहा कि शिव सेना (Shiv Sena) के बिना चुनाव लड़ना चाहिए, उन व्यक्तियों के विवरण का खुलासा होना चाहिए। उन्होंने कहा, हां, हमने (शिवसेना) अकेले चुनाव लड़ा और अच्छा सुधार किया। वर्ष 2019 में चुनाव के पूर्व चुनावी समझौता किया गया था कि ढाई-ढाई वर्ष के लिए दोनों पार्टी के मुख्यमंत्री बनाये जायेंगे लेकिन चुनाव के बाद भाजपा पलट गयी। उन्होंने प्रश्न करते हुए कहा कि किसने किसको धोखा दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा पिछले दो-तीन साल से महाराष्ट्र सरकार के बारे में जनता के बीच भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रही है लेकिन वे ऐसा करने में सफल नहीं होंगे। उनकी सरकार अच्छी तरह चल रही है और अपना कार्यकाल भी पूरा करेगी।