मेघालय के शिलोंग में कारोबारियों के यहां से पानी की टंकियों में छिपाकर रखी काली कमाई जब्त की गई है। यह कार्रवाई आयकर विभाग के पूर्वोत्तर क्षेत्र (एनईआर) के जांच प्रकोष्ठ ने की है। काली कमाई छिपाने वाले ये कारोबारी बेनामी संपत्ति के तौर पर पेट्रोल पंप चलाते हुए भी पाए गए हैं। आपको बता दें कि एनईआर के जांच प्रकोष्ठ ने समन्वित कार्रवाई करते हुए यहां पर कुछ कारोबारियों के ठिकानों पर अभियान चलाया था।

सरकार की तरफ से कहा गया है कि ये लोग कम बिक्री बताकर और वसूल किये गए स्थानीय कर को जमा नहीं करा रहे थे जिससें राज्य सरकार को वैधानिक राजस्व नहीं मिल पा रहा था। इसके अलावा ये लोग आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 10 (26) के तहत जनजातीय लोगों को मिली छूट का दुरुपयोग कर बड़े पैमाने पर कर चोरी कर रहे थे। विभाग ने कार्रवाई के तहत दो करोड़ रुपये से अधिक की बेनामी नकदी जब्त की है।

अधिकारियों ने कारोबारियों के यहां से नकदी पानी की टंकी जैसे अप्रत्याशित स्थानों से जब्त किये गए हैं। अब सरकार की ओर से कहा गया है कि इन बेनामी पेट्रोल पंपों के पर्दाफाश के बाद खासी हिल्स स्वायत्त जिला परिषद (केएचएडीसी) की कार्यकारी समिति (ईसी) की ओर से इनके खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएंगे।