पाकिस्तान के नए बने प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा है कि उनका देश अमेरिका के साथ शत्रुता नहीं रख सकता। उन्होंने ने कहा कि उन्हें खेद है कि इमरान खान सरकार ने चीन, सऊदी अरब, कतर और अमेरिका सहित उन कई देशों को नाराज किया था, जिन्होंने मुश्किल समय में पाकिस्तान की सहायता की थी। उन्होंने ने कहा कि पाकिस्तान अमेरिका के साथ किसी कीमत पर शत्रुता नहीं रख सकता। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका के बीच अविश्वास को खत्म करने की आवश्यकता है और दोनों देशों को यह देखने की जरूरत है कि क्या उन्होंने अतीत में कोई गलती की है।

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा को प्रगतिशील भविष्य देने के लिए CM बिप्लब देब ने की PM मोदी की तारीफ

पीटीआई सदस्यों को संसद में वापस लाने को लेकर शरीफ ने कहा कि उनके इस्तीफे की जांच कर यह पता लगाना जरूरी है कि किसने अपनी मर्जी से इस्तीफा दिया है और किसे इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया था। पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की इस्लामाबाद तक परेड निकालने की धमकी के बारे में शरीफ ने कहा कि धरना-प्रदर्शन हर व्यक्ति का लोकतांत्रिक अधिकार है, लेकिन किसी को भी सड़क पर अराजकता फैलाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। शहबाज शरीफ ने इस दौरान चीनी नागरिकों पर हो रहे हमलों को लेकर भी चिंता जाहिर की।

यह भी पढ़ें : कस्टम विभाग ने इंफाल एयरपोर्ट से जब्त की सोने की 65 छड़ें, कीमत करोड़ों में

शहजाब ने कहा कि वो सऊदी अरब से वापस लौटने के बाद तुरंत मीटिंग करेंगे और चीन के लोगों की सुरक्षा की समीक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के दौरे में द्विपक्षीय मुद्दों पर बात होगी। उन्होंने पूर्ववर्ती इमरान खान सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने कतर और चीन जैसे देशों को नाराज कर दिया। शहबाज ने कहा कि पीटीआई की सरकार ने कतर के शाही परिवार को 2016 में हुए गैस कॉन्ट्रैक्ट पर ऐतराज जताकर नाराज कर दिया। इसके अलावा चीनी परियोजनाओं पर भी सवाल उठाकर उन्होंने ड्रैगन को नाराज किया था। अब हमें इन सभी देशों के साथ संबंधों को मजबूत करना है और अपनी गलतियों को सुधारना है।