कोरोना से जूझ रहे देश को बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों को हर दिन प्रोत्साहन कर रहे हैं। इसी तरह आज भी सुबह उन्होंने ऐलान किया है कि कल रात सभी घर की लाइट बंद करके दिए जालाने के लिए अपील की है। मोदी ने कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में देश की सामूहिकशक्ति के महत्व को रेखांकित करते हुए रविवार 5 अप्रैल की रात 9 बजे देशवासियों से अपने घरों की बालकनी में खड़े रहकर 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाने की अपील की है।

ये अपील करने के बाद कांग्रेस की ओर से पहली प्रतिक्रिया उनके सांसद शशि थरूर ने दी , जिसमें उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में लोगों के दर्द, उनके बोध और उनकी वित्तीय चिंताओं के बारे में कुछ नहीं कहा है। यह बस पीएम मोदी का फील 'गुड मूमेंट' था और कुछ नहीं। शशि थरूर ने पीएम मोदी के संबोधन के बाद ट्वीट किया, 'अभी प्रधान शोमैन की बातें सुनीं है। लोगों के दर्द, उनके बोध, उनकी वित्तीय चिंताओं को दूर करने भविष्य को लेकर कोई दृष्टि नहीं, या उन मुद्दों पर कोई बात नहीं, जिनके बारे में लॉकडाउन के बाद के माहौल में बात करने का उनका इरादा हो।  

पीएम मोदी ने कहा कि मेरी एक और प्रार्थना है कि इस आयोजन के समय किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है और रास्तों में, गलियों या मोहल्लों में नहीं जाना है, अपने घर के दरवाजे, बालकनी से ही इसे करना है।  मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की चेन तोड़ने का सोशल डिस्टेंसिंग ही रामबाण इलाज है।