देवी आराधना के लिए खास माने जाने वाले शारदीय नवरात्र शनिवार 17 अक्टूबर से शुरू होंगे। 25 अक्टूबर तक श्रद्धा एवं भक्ति से मां की आराधना की जाएगी। इसके साथ ही पितृकारक ग्रह सूर्य देव का राशि परिवर्तन भी होगा। सूर्य तुला में प्रवेश करेंगे। इस राशि में पहले से वक्री बुध भी रहेगा। इस कारण बुध और आदित्य का योग बनेगा। इस समयावधि में लंबे समय बाद कोरोना के चलते बाजार ग्राहकों से गुलजार होंगे। नौ दिनों में वाहन, भूमि, आभूषण सहित अन्य खरीदारी की जा सकेगी। बाजारों में ग्राहकों को लुभाने के लिए कई ऑफ र्स की भी भरमार देखने को मिलेगी।

बता दें कि भगवान विष्णु की आराधना वाले अधिक मास के अनुष्ठानों की पूर्णाहुति 16 अक्तूबर को होगी। इसके बाद 17 अक्टूबर से आदि शक्ति स्वरूपा की आराधना का नौ दिवसीय शारदीय नवरात्र आरंभ होगा। इस नवरात्र में तिथि क्षय नहीं है। ऐसे में  शारदीय नवरात्र पूरे नौ दिन का होगा। खास बात यह है कि इस बार महानवमी और दशहरा एक ही दिन पड़ेगा। वहीं ज्योतिषविदों के मुताबिक शारदीय नवरात्र से पहले भी तिथि, वार और नक्षत्रों के संयोग से दो से तीन दिन खरीदारी के लिए शुभ मुहूर्त बन रहे हैं। पंडित पुरुषोत्तम गौड़ ने बताया कि इनमें 13 अक्टूबर को कुमार योग, 14 अक्टूबर को राजयोग रहेगा। इस दौरान सिंह राशि का चंद्रमा होने से वाहन आदि की खरीदी बेहद शुभदायी रहेगी, जो लंबे समय तक चिरस्थायी रहेगी। 

इसके अलावा शारदीय नवरात्र में 4 सर्वार्थसिद्धि, 1 त्रिपुष्कर और 4 रवियोग, अमृत, आयुष्मान, सौभाग्यए धृति और आनंद योग भी रहेंगे। प्रॉपर्टी में निवेश और खरीदी-बिक्री के लिए 22 अक्टूबर को बहुत अच्छा मुहूर्त है। वहीं 17, 19, 25 और 26 अक्टूबर को वाहन खरीदी का विशेष मुहूर्त है। ज्योतिषाचार्य पं.दामोदर प्रसाद शर्मा ने बताया कि नवरात्र में बन रहे शुभ योगों में वाहन, संपत्ति, आभूषण, कपड़े, बर्तन और इलेक्ट्रॉनिक चीजों की खरीदारी की जा सकती है।