दक्षिणी दिल्ली में अतिक्रमण हटाए जाने को लेकर जो एक्शन होना है उसका डर शाहीन बाग में दिखने लगा है। यहां के फर्नीचर बाजार में अफरातफरी का माहौल है। फर्नीचर बाजार में दुकानदार खुद ही ऐसा सामान हटा रहे हैं जो आमतौर पर दुकानों के बाहर सड़क पर रहता है। 

यह भी पढ़ें : मणिपुर में समलैंगिक युवक की ऑनर किलिंग पर बनी फिल्म, इसी साल होगी रिलीज

बता दें कि SDMC ने आज ही बताया था कि जसोला इलाके में सामान्य अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया जाना है। शाहीन बाग जसोला के पास ही पड़ता है। SDMC के इस एक्शन को दिल्ली पुलिस की तरफ से झटका लगा है। सरिता विहार के SHO राकेश कुमार ने SDMC को पत्र लिखकर बताया है कि दिल्ली पुलिस के जवानों की पहले से दूसरी जगहों पर तैनाती है, जिसकी वजह से वह अतिक्रमण हटाने वाले एक्शन के लिए आज सुरक्षा बल की अतिरिक्त तैनाती सरिता विहार में नहीं कर पाएंगे। यह भी कहा गया है कि ऐसे अतिक्रमण विरोधी अभियान के लिए SDMC कम से कम 10 दिन पहले जानकारी दे।

SDMC ने आज अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाने की जानकारी दी है। इसमें SDMC के अधिकारी शामिल होंगे। यह भी बताया गया था कि सड़कों पर अवैध पार्किंग और अवैध रेहड़ी-पटरी विक्रेताओं पर यह एक्शन होगा। कहा गया था कि SDMC के मेयर इस कार्रवाई के दौरान वहां मौजूद नहीं रहेंगे और वहां कोई तोड़फोड़ और कोई स्पेशन अभियान नहीं चलाया जाएगा।

SDMC को यह सफाई इसलिए देनी पड़ी थी क्योंकि दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के मेयर मुकेश सुर्यन ने कहा था जहांगीरपुरी के बाद अब साउथ दिल्ली के इलाकों में बुलडोजर चलेगा। इसमें उन्होंने कहा था कि शाहीन बाग में सरकारी जगहों पर अतिक्रमण है। इसके अलावा सरिता विहार, कालिंदी कुंज में लोगों ने कॉलोनी काट कर अवैध कब्जा किया हुआ है।

यह भी पढ़ें : सिक्किम को लेकर पेमा खांडू का बड़ा ऐलान, इन राज्यों की तिकड़ी करेगी कमाल

मेयर ने कहा था कि एक सर्वे किया गया था, जिसकी रिपोर्ट आने के बाद अब कार्रवाई की जाएगी। कहा गया था कि ये सर्वे सरिता विहार, जैतपुर और मदनपुर खादर इलाके में हुआ था। SDMC के मेयर ने यह भी आरोप लगाया था कि रोहिंग्या व बांग्लादेशियों ने बहुत जगहों पर कब्जा किया हुआ है।

मेयर मुकेश सुर्यन ने कथित अतिक्रमण के लिए दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार को घेरा था। आजतक से बातचीत में उन्होंने कहा था कि पिछले 70 सालों में कांग्रेस और 7 सालों में आम आदमी पार्टी की सरकार ने कभी दिल्ली वालों को लेकर कुछ नहीं सोचा। दोनों ही सरकारों ने घुसपैठियों को बांग्लादेशियों को बसाने का काम किया। लेकिन दिल्ली के नागरिकों की कभी चिंता नहीं की।

वह बोले कि दिल्ली वाले पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं लेकिन आम आदमी पार्टी की सरकार, उनके विधायक रोहिंग्याओं को पानी पहुंचा रहे हैं। दिल्ली सरकार रोहिंग्याओं को नाइट शेल्टर्स में बसा रही है, उनको खाना दे रही है।