पाकिस्तान के सरकारी चैनल पीटीवी ने 17 कर्मचारियों को इसलिए बर्खास्त कर दिया क्योंकि उन्होंने प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ का भाषण कवर नहीं किया था। यह सब तब हुआ था जब प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ हाल ही में लाहौर दौरे पर थे। इसमें दिलचस्प बात ये है कि प्रधानमंत्री के भाषण को कवर ना करने का कारण यह बताया गया कि उन्नत किस्म का लैपटॉप नहीं है।

यह भी पढ़ें : मिजोरम में कोरोना के 83 नए मामले सामने आए, पिछले 24 घंटों में नहीं हुई किसी की मौत

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह घटना उस समय हुई जब प्रधानमत्री शाहबाज शरीफ पिछले हफ्ते लाहौर में थे। इस दौरान उन्होंने कोट लखपत जेल और रमजान बाजार का दौरा किया था। बताया गया कि आमतौर पर, पत्रकारों, और संपादकों की एक वीवीआईपी टीम पीएम के कार्यक्रमों की कवरेज के लिए जिम्मेदार होती है। 

एक रिपोर्ट के बताया गया है कि चूंकि यह एक वीवीआईपी टीम होती है, इसलिए यह नवीनतम गैजेट्स से लैस है। जिसमें लाइव स्ट्रीमिंग के लिए लैपटॉप और किसी भी घटना के फुटेज को समय पर अपलोड करना शामिल है। यह कोर टीम इस्लामाबाद में तैनात है और देश और विदेश में प्रधानमंत्री के साथ चलती है। पीएम शहबाज शरीफ के लाहौर दौरे से पहले पीटीवी को इस दौरे की जानकारी दी गई थी।

यह भी पढ़ें : इंडियन आर्मी मणिपुर में स्थापित करेगी 'रेड शील्ड सेंटर', जानिए क्या होगा फायदा

इसके बावजूद भी ऐसा हो गया था। फिलहाल घटना के बाद एक्शन लेते हुए पीटीवी प्रशासन ने वीवीआईपी कवरेज डिप्टी कंट्रोलर इमरान बशीर खान सहित कुल 17 अधिकारियों को निकाल दिया है। इसके अलावा प्रशासन ने कथित उपेक्षा पर विभिन्न इंजीनियरों और कैमरामैन को भी निलंबित कर दिया है।