कोरोना वायरस के संक्रमण के निरंतर बढते मामलों के बीच केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थिति की समीक्षा की। शाह ने दिल्ली में कोरोना महामारी की स्थिति पर एक सप्ताह में तीसरी बैठक की है।


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली पुलिस आयुक्त एस एन श्रीवास्तव, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के जिलों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ साथ गृह तथा स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर के अधिकारियों ने भी बैठक में हिस्सा लिया। कोरोना वायरस संक्रमण की ताजा स्थिति के साथ साथ इससे निपटने की तैयारियों तथा योजनाओं पर भी इसमें चर्चा की गई।

इसके साथ ही राजधानी और एनसीआर के जिलों के बीच लोगों के आवागमन को लेकर भी बातचीत हुई। केन्द्र सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए उठाये गये कदमों तथा घोषणाओं का भी बैठक में उल्लेख हुआ। श्री शाह ने पिछले चार दिनों में दिल्ली में कोरोना की स्थिति को लेकर उप राज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ लगातार बैठकें की हैं।

दिल्ली के तीनों नगर निगमों के साथ भी उन्होंने बैठक की। उन्होंने दिल्ली के सभी राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ भी कोरोना से निपटने की रणनीति पर चर्चा की थी। गृह मंत्री ने दिल्ली सरकार के कोरोना उपचार के लिए निर्धारित प्रमुख अस्पताल लोकनायक जयप्रकाश का भी औचक दौरा किया था। इसके बाद राजधानी के सभी अस्प्तालों में निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं।

शाह के साथ बैठक के दौरान आये सुझाव के आधार पर ही दिल्ली में कोरोना जांच की कीमत कर के 2400 रूपये की गयी है। इसके अलावा कंटेनमेंट जोन में रेपिड टेस्ट भी बड़ी संख्या में किये जा रहे हैं। राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस का प्रकोप निरंतर बढ रहा है और बुधवार के आंकड़ों के अनुसार रिकॉर्ड 2414 नए मामले सामने आने से कुल संक्रमितों का आंकड़ा 47 हजार को पार कर गया। इस दौरान कोविड-19 के 67 मरीजों की मौत हुई।