झारखंड में लातेहार जिला पुलिस ने उग्रवादी संगठन झारखंड क्रांति मोर्चा (Jharkhand Kranti Morcha) के सुप्रीमो समेत सात उग्रवादियों को गिरफ्तार (Seven militants arrested) किया गया है। पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन ने आज यहां बताया कि शंकर राम उर्फ सौरभ के द्वारा झारखंड क्रांति मोर्चा नामक संगठन बनाकर लातेहार जिले में एक महीने से सक्रिय था। 

लातेहार जिले के ठेकेदारों, व्यापारियों एवं ईंट भट्टा के मालिकों से जान मारने की धमकी देते हुए रंगदारी की मांग की जा रही थी। पुलिस इनपर नजर बनाए हुए थी। पुलिस को सूचना मिली कि 13 दिसंबर को झारखंड क्रांति मोर्चा के कुछ उग्रवादी (Extremists of Jharkhand Kranti Morcha) लातेहार में अप्रिय घटना करने के लिए आने वाले हैं। अंजन ने बताया कि सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए छापेमारी टीम का गठन किया गया। टीम ने पतकी जंगल के पास से मोटरसाइकिल सवार पर एक महिला सहित दो वर्दीधारी उग्रवादी शंकर राम उर्फ सौरभ जी और जरीना खातून उर्फ हसीना खातून उर्फ हसीना को लोडेड कट्टा, कारतूस, नक्सली पर्चा, मोबाइल के साथ पकड़ा गया। 

इनकी निशानदेही पर मनिका थाना क्षेत्र के ग्राम कोपे से इस संगठन के अन्य पांच उग्रवादी उपेंद्र राम उर्फ ओम प्रकाश, विकास कुमार उर्फ मोनू कुमार, प्रदीप पाल, अमित कुमार एवं समीर लकड़ा को भी लोडेड कट्टा एवं कारतूस के साथ गिरफ्तार (Militant arrested in Jharkhand) किया गया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि झारखंड क्रांति मोर्चा का सुप्रीमो शंकर राम उर्फ सौरव पूर्व में माओवादी संगठन एवं जेजेएमपी में जुड़ा रहा है। शंकर पहले भी जेल जा चुका है। जेल से निकलने के बाद संगठन बनाकर लोगों को डरा धमकाकर लेवी वसूलने का कार्य कर रहा था। इसी तरह विकास कुमार उर्फ मोनू हुसैनाबाद से आमर्स एक्ट के मामले में पहले भी जेल जा चुका है। वहीं, गिरफ्तार उपेंद्र राम उर्फ ओम प्रकाश ओम प्रकाश जी पूर्व में टीपीसी उग्रवादी संगठन में सक्रिय सदस्य रह चुका है।