मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में भोपाल से अपनी फेमली को गांव छोडऩे आये कोरोना संक्रमित पुलिस आरक्षक की पत्नी सहित परिवार के सात लोगों को आज स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर जिला प्रशासन ने गांव में चिकित्सकों की टीम तैनात कर दी है।


मुरैना के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी आर सी बांदिल ने यहां बताया कि गत 22 अप्रैल को भोपाल में पदस्थ कोरोना पॉजिटिव एक आरक्षक अपनी पत्नी व दो बच्चों को यहां अपने गांव चमरगंवा छोड़कर 23 अप्रैल को वापस भोपाल लौट गया।


भोपाल में जब उसकी तबियत बिगड़ी तो उसे आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। उन्होंने कि कोरोना मरीज आरक्षक ने जब गांव में अपने भाई सुरेंद्र धाकड़ को अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी तब उसके भाई ने मुरैना जिले के कैलारस में चिकित्सकों को इसकी जानकारी दी।


सूचना के बाद जिला प्रशासन हरकत में आया और कोरोना मरीज आरक्षक की पत्नी सहित परिवार के सात लोगों को गांव से लाकर कैलारस अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। कलेक्टर प्रियंका दास ने एहतियात के तौर पर गांव में चिकित्सकों की टीम तैनात कर दी है। बांदिल ने कहा कि आइसोलेशन वार्ड में भर्ती सभी सातों कोरोना संदिग्धों के सेंपल लेकर जांच के लिये कल भेजे जाएंगे।