राज्य सरकार ने दिव्यांगों के लिए अलग से निदेशालय तथा गुवाहाटी में एक अतिथिशाला बनाने का फैसला किया है। इसके अलावा दिव्यागों को सरकारी विभागों के संरक्षित बैकलाॅग पदों पर नियुक्ति के लिए भी पहल हो रही है। शुक्रवार को जनता भवन में दिव्यांग संगठनों के एक प्रतिनिधिमंडल से हुई भेंट में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने यह जानकारी दी।

उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि दिव्यांगों की मांगों पर सरकार यथासंभव कदम उठाएगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि डिब्रूगढ़ जिले के बरबरुवा में दिव्यांगों के लिए देश के पहले आईटीआई की स्थापना की गई है। उन्होंने बताया कि दिव्यांगों के प्रति सरकार की वनचबद्धता के कारण ही एेसा संभव हो पाया है।

सरकार हर जिले में दिव्यागों की सटीक गिनती करा रही है ताकि उनके लिए कल्याणकारी योजना लाई जा सके। उन्होंने बताया कि सरकार सभी दिव्यागों को हर महीने एक हजार रुपए का भत्ता देेने की पहल कर रही है। दिव्यांग संगठनों से मुख्यमंत्री ने उनके लिए बनाई गई सरकारी योजनाओं को सही ढंग से लागू करने के लिए सहयोग भी मांगा।

बैठक में समाज कल्याण मंत्री प्रमिला रानी ब्रह्म, मुख्यमंत्री के कानूनी सलाहकार शांतनु भराली, प्रेस सलाहकार ह्रषीकेश गोस्वामी, विधायक अगूंरलता डेका, गुरूज्योति दास, मृणाल सइकिया सहित अन्य कई उपस्थित थे।