वैश्विक अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने के संकेत और स्थानीय स्तर पर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) आंकड़ों के मजबूत रहने की उम्मीद से उत्साहित निवेशकों की हुई चौतरफा लिवाली के बल पर आज शेयर बाजार ने बुलंदी पर पहुंचकर एक बार फिर नया रिकॉर्ड बना दिया। 

बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 662.63 अंक की ऊंची छलांग लगाकर पहली बार 57 हजार अंक के पार 57552.39 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की निफ्टी भी 201.15 अंक उछलकर पहली बार 17 हजार अंक के ऊपर 17132.20 अंक पर पहुंच गया। बड़ी कंपनियों की तरह छोटी और मझौली कंपनियों के शेयरों में भी चौतरफा लिवाली का जोर रहा। बीएसई मिडकैप 197.05 अंक की तेजी के साथ 23853.43 अंक और स्मॉलकैप 229.66 अंक की बढ़त लेकर 26919.94 अंक पर रहा। 

बीएसई में कुल 3341 कंपनियों के शेयर में कारोबार हुआ, जिनमें से 1571 बढ़त में और 1624 गिरावट में रहे जबकि 146 में कोई बदलाव नहीं हुआ। चौतरफा लिवाली के बल पर सेंसेक्स के सभी 19 समूह बढ़त में रहे। इस दौरान दूरसंचार समूह के शेयरों ने सबसे अधिक 4.90 प्रतिशत की छलांग लगाई। इसी तरह टेक 1.62 प्रतिशत, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 1.54, यूटिलिटीज 1.50, हेल्थकेयर 1.30, धातु 1.23, सीडीजीएस 1.22, पावर 1.19, तेल एवं गैस 1.18, बेसिक मैटेरियल्स 1.17 और वित्त समूह के शेयर 1.03 प्रतिशत मजबूत रहे। इनके अलावा अन्य समूह के शेयरों में भी 0.06 प्रतिशत से लेकर 0.89 प्रतिशत उठे। वैश्विक अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने के संकेत से विदेशी बाजारों में भी तेजी का रुख रहा। 

ब्रिटेन के एफटीएसई की 0.27 प्रतिशत की गिरावट को छोडकऱ जर्मनी का डैक्स 0.60 प्रतिशत, जापान का निक्केई 1.08 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसैंग 1.33 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.45 प्रतिशत मजबूत रहे। कारोबार की शुरुआत में सेंसेक्स 105.39 अंक की तेजी के साथ 56995.15 अंक पर खुला लेकिन तेज भाव पर शुरू हुई मुनाफावसूली के दबाव में थोड़ी देर बाद ही 56859.10 अंक के निचले स्तर पर आ गया। इसके बाद उतार-चढ़ाव से गुजरते हुए अंतिम समय में शुरू हुई जबरदस्त लिवाली के बल पर यह 57625.26 के अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। अंत में पिछले दिवस के 56889.76 अंक की तुलना में 1.16 प्रतिशत की छलांग लगाकर 57552.39 पर रहा।