त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव के नतीजों से एक दिन पहले शुक्रवार सुबह सीपीएम के वरिष्ठ नेता और मंत्री खगेन्द्र जमातिया का निधन हो गया। उन्होंने दिल्ली स्थित एम्स में अंतिम सांस ली। खगेन्द्र जमातिया मुख्यमंत्री माणिक सरकार के नेतृत्व वाली लेफ्ट फ्रंट सरकार में मतस्य, सहकारिता व फायर सर्विस विभाग के मंत्री थे।

61 साल के जमातिया कुछ समय से लीवर संबंधी बीमारी से पीडि़त थे। मतदान के बाद उन्होंने बैचेनी की शिकायत की। इसके बाद उन्हें दो बार अगरतला के जी.बी.अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में ही उनकी हालत बिगड़ गई। जिसके बाद 22 फरवरी को जमातिया को दिल्ली स्थित एम्स में शिफ्ट किया गया। जमातिया खोवई जिले की कृष्णापुर से सीपीएम के उम्मीदवार थे। यह सीट एसटी के लिए रिजर्व है। त्रिपुरा में विधानसभा की कुल 60 सीटें हैं। सीपीएम के एक उम्मीदवार के निधन के कारण 59 सीटों के लिए ही मतदान हुआ। चुनाव के नतीजे 3 मार्च को घोषित होंगे। चारिलाम सीट से सीपीएम उम्मीदवार रामेन्द्र नारायण देबबर्मा का निधन हो गया था। चारिलाम सीट पर अब 12 मार्च को मतदान होगा।

त्रिपुरा में सीपीएम का नेतृत्व वाला लेफ्ट फ्रंट पिछले 25 साल से सत्ता में है। माणिक सरकार पिछले करीब बीस साल से राज्य के मुख्यमंत्री हैं। इस बार के विधानसभा चुनाव में भाजपा और आईपीएफटी का गठबंधन लेफ्ट फ्रंट के सामने बड़ी चुनौती के रूप में उभरा है।  भाजपा ने चुनाव से पहले आईपीएफटी से गठबंधन किया। भाजपा ने 51 सीटों पर चुनाव लड़ा जबकि आईपीएफटी ने 9 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे। कुछ एग्जिट पोल में जहां त्रिपुरा में भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन की सरकार बनने की भविष्यवाणी की गई है वहीं राज्य के स्थानीय लोकल न्यूज चैनलों और वेब मीडिया ऑर्गेनाइजेशन ने त्रिपुरा में फिर से लेफ्ट फ्रंट की सरकार बनने की भविष्यवाणा की है। वेब मीडिया ऑर्गेनाइजेशन त्रिपुराइंफो ने एग्जिट पोल प्रकाशित किया है। इसमें सीपीएम के नेतृत्व वाले लेफ्ट फ्रंट की फिर से सरकार बनने की भविष्यावाणी की गई है। एग्जिट पोल में लेफ्ट फ्रंट को 40  से 49 सीटें मिलने का दावा किया गया है।

वहीं भाजपा और आईपीएफटी के गठबंधन को सिर्फ 10 से 19 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गई है। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और अन्य दलों को एक भी सीट नहीं मिलेगी। त्रिपुराइंफो के एग्जिट पोल में दावा किया गया है कि एसटी के लिए रिजर्व 20 सीटों में से लेफ्ट पार्टियां 15 सीटें जीतेंगी। कोकबोरोक कैबल टीवी चैनल कोक त्रिपुरा ने एसटी के लिए रिजर्व 20 सीटों को लेकर भविष्यवाणी की है। कोक त्रिपुरा के मुताबिक 20 में से लेफ्ट पार्टियों को 4 से 7 मिलेगी जबकि भाजपा गठबंधन को 13 से 16 सीटें मिल सकती है।

चैनल के मुताबिक कांग्रेस,तृणमूल कांग्रेस और अन्य दलों को एक भी सीट नहीं मिलेगी। लोकल कैबल टीवी चैनल दिनरात ने त्रिपुराइफो के साथ एग्जिट पोल किया है। राष्ट्रीय टीवी चैनल न्यूज-एक्स ने त्रिपुरा में भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन की जीत की भविष्यवाणी की थी। उसने भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन के 35 से 45 सीटें जीतने का दावा किया है। सीपीएम और लेफ्ट पार्टियों को 14 से 23 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गई है। एक सीट अन्य दलों को मिलने का दावा किया है।

एक्सिस माई इंडिया और न्यूज 24 के एग्जिट पोल में भी भाजपा गठबंधन के जीत की भविष्यवाणी की गई है। एग्जिट पोल के मुताबिक भाजपा गठबंधन को 44 से 50 सीटें मिलने का दावा किया गया है। लोकल कैबल टीवी चैनल हेडलाइंस त्रिपुरा व अन्य ने कहा है कि लोगों की नब्ज भाजपा के पक्ष में है। इसने भविष्यवाणी की है कि भाजपा और उसके सहयोगी दल को 54 फीसदी वोट मिलेंगे। वहीं दिल्ली बेस्ड इंटरनेशनल पोलिंग एजेंसी सी वोटर ने त्रिपुरा में कांटे की टक्कर की भविष्यवाणी की थी। सी वोटर के मुताबिक सीपीएम और लेफ्ट पार्टियों को 44.3 फीसद वोट शेयर के साथ 26 से 34 सीटें मिलेंगी। भाजपा गठबंधन को 42.8 फीसद वोट शेयर के साथ 24 से 32 सीटें मिलेगी। सी वोटर के मुताबिक कांग्रेस 7.2 फीसद वोट शेयर के साथ 2 सीटें जीत सकती है।