पूर्वोत्तर भारत की मुखर आवाज के तौर पर पत्रकारिता करने वाले वरिष्ठ पत्रकार बाबुल बरुआ का निधन हो गया है। बरुआ काफी समय से लंबी बीमारी से जूझ रहे थे। वह 80 वर्ष के थे। वह लगभग 40 वर्षों तक देश की प्रतिष्ठित समाचार एजेंसी पीटीआई से जुड़े हुए थे। बरुआ 1966 में पीटीआई के गुवाहाटी ब्यूरो में नियुक्त हुए थे। उसके बाद उन्हें एजेंसी के अरुणाचल प्रदेश कार्यालय की स्थापना के लिए इटानगर स्थानांतरित कर दिया गया था।

बरूआ ने 80 के दशक के दौरान कोलकाता में पीटीआई के पूर्वी क्षेत्र मुख्यालय में अपनी सेवा दी। उसके बाद उन्हें मिजोरम के आइजोल में तैनात किया गया, जब राज्य उग्रवाद का सामना कर रहा था। बरुआ ने पीटीआई के सिलचर कार्यालय में भी सेवा दी। वह 2002 में वह शिलांग में सेवानिवृत हुए।

वरिष्ठ पत्रकार बरूआ पिछले कुछ वर्षों से गुर्दे से जुड़े रोग और हृदय संबंधी रोग से ग्रसित थे। वह पुणे में अपने बेटे के साथ रहते थे, जहां शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटा और दो बेटियां हैं।