केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने आज आरोप लगाया कि बिहार में शराबबंदी कानून लागू होने के बाद जनता दल यूनाइटेड (जदयू) इकलौती ऐसी पार्टी है, जिसकी आमदनी में पांच वर्ष में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। 

ये भी पढ़ेंः डेप्युटी सीएम पद की शपथ लेकर तेजस्वी यादव ने पैर छूकर लिया नीतीश कुमार का आशीर्वाद


सिंह ने बुधवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि बिहार में शराबबंदी के बाद राज्य सरकार को मिलने वाला सारा राजस्व शराब माफिया को जाता है, जिसका इस्तेमाल जदयू को चलाने के लिए होता है। आज शराबबंदी कानून हटेगा, कल जदयू खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा है कि शराबबंदी के बाद जदयू के चंदा संग्रह में अभूतपूर्व इजाफा हुआ है। भाजपा के वरिष्ठ नेता सिंह ने शराबबंदी के बाद पांच साल में जदयू को मिलनेवाले चंदे का आंकड़ा भी जारी किया है, जिसमें वर्ष 2016-17 से 2020-21 में पार्टी को मिले चंदे के बारे में बताया है। 

ये भी पढ़ेंः पंजाब के अकाली दल सांसद का बड़ा ऐलान, '15 अगस्त को तिरंगा नहीं सिख झंडा फहराएं'


उन्होंने कहा कि किस तरह पांच साल में जदयू का चंदा 359 लाख रुपये से बढ़कर आज 6,531 लाख रुपये हो गया है। जहां वर्ष 2016-17 में पार्टी की आय 359 लाख रुपए थी, वहीं वर्ष 2020-21 में यह राशि 6,531 हो गई। यह तब है जब बिहार में कोई बड़ा उद्योग नहीं लगा। जाहिर है कि शराब के धंधेबाजों ने जदयू को यह चंदा दिया ताकि शराबबंदी के नाम का दिखावा यूं ही चलता रहा।