मांड्या। कर्नाटक के मांड्या जिले में विवादित जामिया मस्जिद के खिलाफ विश्व हिंदू परिषद (विहिप )की प्रस्तावित श्रीरंगपटना चलो यात्रा के मद्देनजर जिला प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी है। इस निषेधाज्ञा के तहत लागू प्रतिबंध 3 जून को दोपहर 3 बजे से 5 जून दोपहर 12 बजे तक प्रभावी रहेंगे। 

ये भी पढ़ेंः अरुणाचल पुलिस का म्यांमार सीमा पर एक्शन, गिरफ्तार किए 2 उल्फा आई उग्रवादी

विहिप ने इन प्रतिबंधों की आलोचना करते हुये कहा कि सरकार को इस मार्च पर प्रतिबंध लगाने के बजाय मस्जिद परिसर के अंदर चलाए जा रहे मदरसों को खाली कराना चाहिए। विहिप का दावा है यहां एक हनुमान मंदिर था जिसे तत्कालीन मैसूर शासक टीपू सुल्तान ने ध्वस्त दिया गया था। विहिप ने कहा कि जिस जगह आज मस्जिद और मदरसा है वहां पहले हनुमान मंदिर था। 

इस संबंध में हमने जिला प्रशासन का कई बार ज्ञापन सौपकर मदरसा हटाने की मांग की है जहां बच्चों को जिहादी शिक्षा दी जा रही है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन भी मानता है कि मौजूदा जामिया मस्जिद के स्थान पर पहले मंदिर था और इसका धारा 144 के आदेश में भी इसका स्पष्ट उल्लेख है। 

ये भी पढ़ेंः अरुणाचल की इस लड़की ने पास की UPSC सिविल सेवा परीक्षा, मिली 584वीं रैंक


विहिप ने कहा कि यदि यह नकारा जिला प्रशासन और सरकार पूर्ववर्ती मंदिर वाली जगह से मदरसा नहीं हटवाती तो फिर हम कानूनी कार्रवाई करने को बाध्य होंगे। उल्लेखनीय है कि मई 20 को विहिप और बजरंग दल ने मांड्या के उपायुक्त को सौंपे ज्ञापन में ज्ञानवापी मस्जिद की तर्ज पर इस स्थान का पुरातत्व विभाग द्वारा सर्वे करा कर सच्चाई का पता लगाने की मांग की थी।